ALL देश /विदेश राज्य अपराध खेल मनोरंजन/सिनेमा लाइफ स्टाइल धर्म हिन्दी साहित्य शिक्षा कारोबार
उनके साथ स्कूटर पर बैठकर काम किया, वे सर्वश्रेष्ठ करके दिखाते हैं नड्डा भाजपा के 11वें अध्यक्ष, मोदी ने कहा...
January 21, 2020 • Dr. Surendra Sharma

एजेंसी

नई दिल्ली। जगत प्रकाश नड्डा (59) आम सहमति से भाजपा के 11वें राष्ट्रीय अध्यक्ष चुने गए। उन्होंने चुनाव प्रक्रिया के तहत सोमवार को पार्टी मुख्यालय में इस पद के लिए नामांकन दाखिल किया। कोई उम्मीदवार नहीं आने पर उन्हें अध्यक्ष बनाया गया। वे अमित शाह के बाद दूसरे ऐसे नेता हैं, जिन्हें उत्तर प्रदेश में सफलता के बाद पार्टी की कमान सौंपी गईप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पार्टी मुख्यालय पहुंचकर नड्डा का स्वागत और कार्यकर्ताओं को संबोधित किया। मोदी ने कहा कि नड्डा ने पार्टी के विकास में बहुत योगदान दिया है। उन्होंने कहा- मैंने नड्डाजी के साथ स्कूटर पर बैठकर पार्टी का काम किया है। अमित शाह की तारीफ करते हुए मोदी ने कहाअमित भाई का कार्यकाल इसलिए याद रखा जाएगा, क्योंकि टेक्नोलॉजी, पार्टी को बढ़ाने और कार्यकर्ताओं के लिए उन्होंने काम किया। मैंने नड्डाजी के साथ स्कूटर पर बैठकर काम किया है। जब मैं संगठन का काम देखता था, तब ये युवा मोर्चा का काम देखते थे। जब जो जिम्मेदारी मिली, उसे निभाते रहें। जो काम मिले, उसमें उत्तम से उत्तम करके दिखाना हमने नड्डाजी में देखा है।

'भाजपा संघर्ष और संगठन की पटरियों पर चलती है'प्रधानमंत्री ने कहा- जिन आदशों और मूल्यों के लिए 5-5 पीढ़ियां खप गईं, उन्हीं आदर्शों और मूल्यों को लेकर भाजपा राष्ट की आशा और अपेक्षाओं के अनुरूप अपने आप को ढालेगी। पार्टी हॉरिजेंटल विस्तार करती है और कार्यकर्ताओं का वर्टिकल विकास होता है। इसी परंपरा का परिणाम है कि भाजपा को लगातार नई पीढ़ियां मिलती चली जा रही हैं। मोदी ने कहा- 2014 में अमित भाई और 2014 के पहले हम राजनाथजी के नेतृत्व में लड़े। राजनीतिक दलों के लिए चुनाव लगातार चलने वाली प्रक्रिया है। हमारी पार्टी का विकास संघर्ष और संगठन की पटरियों पर चलती है।

'जिन्हें जनता ने नकारा वे अब केवल झूठ फैला रहे': हम जिन आदशों को लेकर चले, कुछ लोगों को उसी पर ऐतराज है। उनके लिए बहुत काम रास्ते बचे हैं। इसलिए उनका एजेंडा है कि भ्रम फैलाओ, झूठ फैलाओ। हर चीज को एक रूप और रंग दे दो, हवा दे दो। ये हम लगातार देख रहे हैं। हम जहां पहुंचे हैं, उसकी वजह एक- एक भाजपा कार्यकर्ता का जनता के एक-एक नागरिक के साथ विश्वास का नाता है। उसी शक्ति ने पहली बार गैर कांग्रेसी पार्टी को पूर्ण बहुमत दिया और दूसरी बार पहले से ज्यादा वोट देकर जीत दिलाई।