ALL देश /विदेश राज्य अपराध खेल मनोरंजन/सिनेमा लाइफ स्टाइल धर्म हिन्दी साहित्य शिक्षा कारोबार
उदयपुर : रुपयों की जरुरत के लिए यूट्यूब पर वीडियो देख सीखा गैस कटर से एटीएम काटना, पंजाब में पकड़े गए दो बदमाश
February 7, 2020 • Dr. Surendra Sharma

उदयपुर। शहर में एसबीआई और आईसीआईसीआई के तीन एटीएम को लूटने की नाकाम कोशिशें करने वाली गैंग के दो बदमाशों को सुखेर थाना पुलिस ने गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया। यह वारदातें यू ट्यूब पर गैस कटर से एटीएम काटने की तकनीक सीखने के बाद की गई सम खलासा यह कि पिछले महिने वारदात कर दिल्ली से पंजाब भाग निकले एक बदमाश ने नशे में कहासुनी के बाद अपनी गैंग के एक साथी की चाकू घोंपकर हत्या कर डाली थी। पंजाब पुलिस उस मामले को सुलझा नहीं सकीइसी बीच सीसीटीवी फुटेज, गाड़ी नंबर व तकनीकी अनुसंधान के बाद अमतसर पहंची उदयपर पुलिस की स्पेशल टीम ने दो बदमाशों को गिरफ्तार कर लियाजिसमें चार सदस्यीय गैंग के बदमाश ने अपने एक साथी की हत्या का खुलासा किया। यह था मामला: एसपी कैलाशचंद्र विश्नोई ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी रणधीर उर्फ धीरा (23) और गुरजन सिंह उर्फ मन्नु (24) है। ये दोनों अमृतसरपंजाब के रहने वाले है। विश्नोई के मुताबिक इस गैंग ने 15 जनवरी की रात को जावरमाइंस थाना इलाके में तावड़ गेट स्थित आईसीआईसीआई बैंक के एटीएम को गैस कटर से काटकर लाखों रुपए लूटने का प्रयास किया था। इसके बाद 23 जनवरी की रात को न्यू मार्केट जावरमाइंस स्थित एसबीआई के एटीएम को उखाड़ने का प्रयास किया। बदमाशों ने वहां मौजूद सिक्यूरिटी गार्ड को बंधक बनाकर मारपीट भी की। लेकिन गश्त पर मौजूद पुलिस के पहुंचने से खाली हाथ ही भाग निकले।

इसी तरह, गैंग ने 24 जनवरी की रात को सुखेर थाना इलाके में एक गार्ड को बंधक बनाकर मारपीट के बाद एसबीआई के एटीएम को लूटने का प्रयास किया। फिर भी वे नाकाम रहे। सुखेर थाने में एटीएम लूट की तीसरी नाकाम वारदात में बदमाशों ने एक पिकअप का इस्तेमाल किया था। यह पिकअप गोवर्धनविलास थाना इलाके से चुराई गई थी। इस तरहइन वारदातों को देखकर एक ही गैंग के लिप्त होने का अंदाजा लगाया गया। तब एसपी विश्नोई के निर्देश पर एडिशनल एसपी गोपाल स्वरुप मेवाड़ा के निर्देशन में पुलिस अनुसंधान शुरु किया।

इस तरह बदमाशों को चिन्हित कर पंजाब पहुंची पुलिस ने गैंग को पकड़ाः एएसपी गोपाल स्वरुप मेवाड़ा के मुताबिक तीनों एटीएम और उनके आसपास लगे सीसीटीवी फुटेज और तकनीकी अनुसंधान में गुरजंत सिंह व रणधीर सिंह का हुलिया सामने आया। अनुसंधान में यह भी पता चला कि वे दोनों अमृतसर, पंजाब के रहने वाले है यहां जावरमाइंस स्थित एक कंपनी में मशीन ऑपरेटर का काम करते थे। एटीएम लूट की हुई वारदातों के बाद वे फरार चल रहे है। उनका पूर्व में आपराधिक रिकार्ड भी है। ऐसे में संदेह होने पर जावरमाइंस थानाप्रभारी कमलेंद्र सिंह, हेडकांस्टेबल अखिलेश्वर, कांस्टेबल जगदीश व नरेंद्र जाखड़ व वीरेंद्र सिंह थाना टीडी की विशेष पुलिस टीम अमृतसर पहुंची। जहां दोनों आरोपियों को धरदबोचा और पूछताछ के लिए उदयपुर ले आए। यहां पूछताछ में बदमाशों ने वारदात करना कबूल कर लिया।

एटीएम काटने का तरीका, फिर वारदात की एसपी कैलाशचंद्र विश्नोई ने बताया कि पूछताछ में दोनों आरोपियों ने खुलासा किया कि वे दोनों गहरे दोस्त है। करीब डेढ़ माह पहले उदयपुर में सिमर कंपनी में जॉब करने आए थे। रणधीर व गुरजंत सिंह को रुपयों की जरुरत थी। ऐसे में एटीएम काटकर रुपए लूटने की साजिश रची। इसे पूरा करने के लिए यू ट्यूब पर गैस कटर की मदद से एटीएम काटने का तरीका सीखा। फिर गैंग में पंजाब में टोल प्लाजा में काम करने वाले दोस्त मनिंदर सिंह उर्फ सनी और बैंगलोर में काम करने वाले पंजाब निवासी दोस्त अमन से संपर्क कर रुपयों का लालच दिया और शामिल कर लिया।