टिक टॉक बैन होने के बाद भी कैसे चला रहे हैं लोग, अपने लिये दे रहे हैं गंभीर समस्या को जन्म     
July 19, 2020 • Dr. Surendra Sharma

टिक टॉक बैन होने के बाद भी कैसे चला रहे हैं लोग, अपने लिये दे रहे हैं गंभीर समस्या को जन्म                                              चीन का बेहद लोकप्रिय शॉर्ट वीडियो एप टिक टॉक भारत में बैन होने के बाद भी कुछ लोग इसका पीछा नहीं छोड़ रहे हैं। सरकार ने इस ऐप को बैन  तो कर दिया है लेकिन यह अभी भी लोगों के फोन में मौजूद है। और कई यूजर्स इंस्टॉल और इस्तेमाल कर पा रहे हैं। आखिर बैन होने के बाद भी लोगों के फोन में यह ऐप कैसे मौजूद है। और क्या इसका इस्तेमाल करना सेफ है। दरअसल जबसे टिकटोक बैन हुआ है लोग इसे यूज करने के लिए अलग-अलग जुगाड़ ढूंढ रहे हैं ।कोई इसे एपीके फाइल के जरिए डाउनलोड कर रहा है तो कोई वीपीएन के जरिए ऐप को एक्सेस करने की कोशिश कर रहा है। लेकिन ज्यादातर तरीके काम नहीं कर रहे हैं इसी बीच व्हाट्सएप पर एक एप एपीके फाइल कॉलिंग तेजी से वायरल हो रहा है। ऐसे लोगों के फोन में टिक टॉक डाउनलोड हो रहा है। जैसे ही यूजर इस लिंक पर क्लिक करता है उसका फोन अननोन ऐप को इंस्टॉल करने की परमिशन मांगता है। अब जब यूजर सेटिंग में जाकर परमिशन ऑन कर देता है तो उसे इंस्टॉल करने का ऑप्शन मिल जाता है और आसानी से फोन में काम करने लगती है।                                                 फोन के लिए खतरा डाटा चोरी का हैडर:-  जो लोग इस तरीके का इस्तेमाल करके टिक टॉक चला रहे हैं शायद उन्हें नहीं पता होगा कि वह कितने बड़े खतरे को बुलावा दे रहे हैं ।जब भी कोई फाइल ऑफिशियलि मौजूद नहीं होती है और आप उसकी एपीके फाइल इस्तेमाल कर रहे हैं तो आप यह पता नहीं लगा पाते कि उसमें क्या मोडिफिकेशंस किए गए यानी कि साफ है इससे आपके फोन में आसानी से मेलवेयर, स्पाई वेयर घुस सकते हैं।जिसके  बाद आपका प्राइवेट डाटा एपीके फाइल डेवलपर के पास ट्रांसफर हो सकता है। इतना ही नहीं आपने यह भी ध्यान दिया होगा कि जब भी हम कोई नई ऐप डाउनलोड करते हैं तो आपसे कई चीजों की परमिशन मांगता है । इसमें कैमरा ,ऑडियो, गैलरी ,लोकेशन जैसे ऑप्शन आते हैं तो अगर आप इन परमिशन को अलाउ कर देते हैं तो डेवलपर को पता चल जाता है कि आप कहां जा रहे हैं किस से बात कर रहे हैं। यानी कि डेवलपर फोन का पूरा एक्सेस चला जाता है।ये जो एपीके फाइल है वह अनऑफिशियल वर्जन है हो सकता है कि यह इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर को बाईपास करके आपको टिक टॉक का एक्सेस देता है। देखने में और करने में यह बिल्कुल ओरिजिनल टिकटोंक की तरह लगता है लेकिन भूल कर भी इसे यूज ना करें क्योंकि इससे आपके डाटा को  खतरा रहता है।