ALL देश /विदेश राज्य अपराध खेल मनोरंजन/सिनेमा लाइफ स्टाइल धर्म हिन्दी साहित्य शिक्षा कारोबार
श्री रामचन्द्रजी मंदिर में सियाजी गौरी पूजन के लिए आई
November 14, 2019 • Dr. Surendra Sharma

कार्यालय संवाददाता- 

जयपुर। मंदिर श्री रामचन्द्र जी चांदपोल बाजार में चल रहे सात दिवसीय श्री राम जानकी विवाह महोत्सव मे कल पुष्प वाटिका प्रसंग एवं गोरी पूजन प्रसंग साकार किया भक्त समाज ने विशेष पद जैसे 'पूजन की करके तयारी आई सखी संग जनक लली' बाग में उजियारी छायी, सखियों संग सिया जु गौरी पूजन आयी' आदि का गान किया। इस उत्सव के समय भक्तजन भारी संख्या में उपस्थित रहे । आए हुए सभी भक्तों को मंगल नेक मे कन्याओं को गौरी माता की प्रसाद स्वरूप लाल चुनड़ी वितरित की गई। बुधवार को धनुष यज्ञ का कार्यक्रम किया जाएगा इस प्रसंग के लिए काठ का धनुष व बाण विशेष तौर पर कराया गया है जिसको सोने वह चांदी के गोटे से सजाया गया है । यह धनुष मंदिर जगमोहन के बीचों बीच रखा जाएगा जिसे ठाकुर श्री राम जी अपने हाथों से तोड़ेंगे इस धनुष का नाम रामायण मे शिव धनुष 'पिनाग' बताया गया है। यह धनुष शिव जी ने परशुराम जी को दिया था फिर परशुराम जी ने राजा जनक राज के पास रखवा दिया । राजा जनक ने इस धनुष को सीता स्वयंवर के उपयोग मे लिया। जब श्री राम जी यह धनुष तोड़ेंगे तब घंटे घड़ियाल नगाड़ा शंक आदि की गर्जना के बीच श्री सीता जी उन्हें जय- माला पहनाएगी। इसके बाद जनकपुर से अयोध्या मंगल पत्रिका भेजी जाएगी । विशेष पद जैसे 'लेत चढ़ावत बैंचत गाढ़े, कबहुना लखा देख सब ठाढ़े 'जिस छन मध्य राम धनु तोड़ा, भरे भुवन धुनि घोर कठोरा'। आदि का मुख्य रूप से गायन होगा।