ALL देश /विदेश राज्य अपराध खेल मनोरंजन/सिनेमा लाइफ स्टाइल धर्म हिन्दी साहित्य शिक्षा कारोबार
श्री बालाजी पीजी महाविद्यालय जयपुर द्वारा आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस एंड एंड्राइड सिस्टम नेशनल वर्कशॉप का आयोजन
February 9, 2020 • Dr. Surendra Sharma

श्री बालाजी पीजी महाविद्यालय जयपुर द्वारा आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस एंड एंड्राइड सिस्टम नेशनल वर्कशॉप का आयोजन किया गया. इस प्रोग्राम के मुख्य अतिथि डॉ संदीप कुमार पुनिया एसोसिएट प्रोफेसर डिपार्टमेंट ऑफ कंप्यूटर साइंस एंड इंजीनियरिंग एमिटी यूनिवर्सिटी जयपुर मुख्य अतिथि ने कंप्यूटर विज्ञान के क्षेत्र में हो रहे नए नए अविष्कारों के बारे में विद्यार्थियों को बताया |

साथ ही उन्होंने भविष्य में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस ई की संभावना को विस्तार से समझाया कार्यक्रम के मुख्य वक्ता डॉ वैभव भटनागर असिस्टेंट प्रोफेसर तथा डॉ विजेंद्र सिंह असिस्टेंट प्रोफेसर डिपार्टमेंट ऑफ कंप्यूटर साइंस एंड इंजीनियरिंग मणिपाल यूनिवर्सिटी जयपुर रहे वर्कशॉप के दौरान मुख्य वक्ताओं ने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस ई एवं एंड्राइड सिस्टम के व्यवहारिक ज्ञान को विद्यार्थियों के  मध्य प्रस्तुत किया|

उन्होंने यह भी बताया कि कैसे आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस  के माध्यम से बिना मानवीय हस्तक्षेप के कार्य को आसानी से तथा बिना किसी गलती के किया जा सकता है इन्होंने विद्यार्थियों के समक्ष एंड्रॉयड जगत में हो रहे क्रांतिकारी परिवर्तनों को भी प्रस्तुत किया तथा भविष्य में बनने वाली इसकी संभावनाओं से अवगत कराया वर्कशॉप के दौरान कंप्यूटर साइंस के क्षेत्र से संबंध रखने वाले छात्र-छात्राओं रिसर्च स्कॉलर विभिन्न महाविद्यालयों से आगंतुकों ने उपरोक्त विषय के संबंध में ज्ञान अर्जन किया संस्था के मैनेजिंग डॉक्टर श्री जगदीश पूनिया जी ने सभी छात्र-छात्राओं को यह बताया कि कैसे कंप्यूटर साइंस के क्षेत्र में हो रहे परिवर्तन समाज में अपना असर डाल रहे हैं प्राचार्य डॉ हरिसिंह ने सभी अतिथियों एवं प्रतिभागियों का स्वागत किया तथा यह बताया कि यदि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का उपयोग सही दिशा में किया जाए तो वह समाज के लिए कितना हितकारी सिद्ध होगा इसके साथ ही उन्होंने सभी छात्र छात्राओं को बधाई दी तथा इस तरह के कार्यक्रम नियमित आयोजित करने की अपील की वर्कशॉप के कन्वीनर शांतनु आर्यन ने कंप्यूटर विज्ञान की महत्वता को बताते हुए व्यावहारिक जीवन में इसकी उपयोगिता पर प्रकाश डाला