ALL देश /विदेश राज्य अपराध खेल मनोरंजन/सिनेमा लाइफ स्टाइल धर्म हिन्दी साहित्य शिक्षा कारोबार
श्रमिक विरोधी नीतियों को लेकर रेल कर्मियों ने किया विरोध प्रदर्शन
August 9, 2020 • Dr. Surendra Sharma

 

श्रमिक विरोधी नीतियों को लेकर रेल कर्मियों ने किया विरोध प्रदर्शन.                                                                    मेड़ता सिटी 9 अगस्त । सरकार के श्रमिक विरोधी व्यवहार से मजबूर होकर ऑल इन्डिया रेलवेमैंस फेडरेशन/नॉर्थ वेस्टर्न रेलवे एम्प्लाइज यूनियन ने संघर्ष का निणर्य लिया है।सरकार की कर्मचारी विरोधी नीतियों, निजीकरण, निगमीकरण, रिक्त पदों को न भरकर इन्हें सरेंडर करने,पुरानी पेंशन बहाल न करने , DA की 3 किश्ते रोकने जैसे कर्मचारियों विरोधी नीतियों के खिलाफ दिनाँक 09 अगस्त,2020 को राष्ट्रव्यापी विरोध दिवस मनाने का एलान किया है। गौरतलब है कि दिनाँक 9 अगस्त,1942 को "अंग्रेजो भारत छोड़ो "का नारा दिया गया था। इसी यादगार दिन 9 अगस्त को ही चुनकर आज दिनाँक 09 अगस्त,2020 को मेड़ता रोड़ स्टेशन पर गाड़ी संख्या 02478 जयपुर-जोधपुर सुपरफास्ट पर सुबह 9 बजे NWREU मेड़ता रोड़ शाखा अध्यक्ष  अवतार सिंह संधू,शाखा सचिव  महेश उपाध्याय के नेतृत्व में कोविड -19 गाइडलाइन्स की पालना करते हुए विरोध प्रदर्शन रखा गया।   AIRF के आव्हान पर पूरे देश मे प्रत्येक स्तर पर केंद्र सरकार की कर्मचारी विरोधी नीतियों के खिलाफ आज 9 अगस्त को विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है। साथ ही AIRF के जनरल सेक्रेटरी  शिवगोपाल जी मिश्रा के आव्हान पर आज सुबह 9 से 12 के मध्य रेल मंत्री, प्रधानमंत्री, शिवगोपाल जी मिश्रा को टैग करके # Save Railway_Save Nation ट्वीट किया जा रहा है।

         अध्यक्ष  अवतार सिंह संधू ने बताया कि सरकार द्वारा आये दिन निजीकरण को बढ़ावा दिया जा रहा है। कर्मचारियों की कई लम्बित मांगो- पुरानी पेंशन बहाल करना, DA फ्रीज की किश्त को पुनः चालू करने, रिक्त पदों को भरना ,पदों को सरेंडर न करना इत्यादि की तरफ सरकार द्वारा कोई ध्यान नही दिया जा रहा है।

       सरकार एवम रेल मंत्री बार बार ये कह रहे है कि रेलवे में निजीकरण नही होगा परन्तु इनकी कथनी एवम करनी में अंतर है। हाल ही में सरकार द्वारा 109 निजी ऑपरेटर्स को रेलवे में निवेश के लिए आमंत्रित किया गया है।यदि ऐसा चलता रहा तो एक दिन यह पूरा रेलवे निजी हाथों में आ जायेगा एवम निजी ऑपरेटर्स अपनी मनमानी करेंगे।

      प्रदर्शन के अंत में सचिव महेश उपाध्याय ने सभी को एकजुट रहकर केंद्र सरकार की कर्मचारी विरोधी नीतियों का विरोध करते हुए आज ज्यादा से ज्यादा संख्या में ट्वीट करने का आव्हान किया।

       इस विरोध प्रदर्शन में अखिल भारतीय रेलवे खान-पान लाइसेंसीज वेलफेयर एसोसिएशन ने भी समर्थन दिया। इनकी तरफ से रामअवतार शर्मा, रतन लाल, कमल किशोर ,राजेश शर्मा, वीरेंद्र भी शरीक हुए। इस दौरान प्रदर्शन में शाखा सचिव महेश उपाध्याय, अध्यक्ष श्री अवतार सिंह संधू, लोको शाखा सचिव संदीप गुर्जर, उपाध्यक्ष लक्ष्मीनारायण टांक, माधुदास, शीशराम ओला, कानसिंह , रामस्वरूप, अरविंद शर्मा, राजेश जाट, हुकमाराम , ओमप्रकाश , फ़क़ीर मोहम्मद, आनंद मोहन , रामसिंह राठौड़, शोभागमल मीणा ,रामनिवास जोशी, अभिषेक शर्मा समेत कई कर्मचारी मौजूद रहे।