संघर्ष से ही जीवन मजबूत और स्थिर बनता है।
May 1, 2020 • Dr. Surendra Sharma

 संघर्ष से ही जीवन मजबूत और स्थिर बनता है - आर्यिका गौरवमती


जयपुर 1मई । शहर के ख्वाज की रास्ता स्थित पार्श्वनाथ दिगम्बर जैन मंदिर में विराजमान गणिनी आर्यिका रत्न गौरवमती माताजी ने शुक्रवार को अपने आशीर्वचन में कहा कि " इस समय पूरी सृष्टि कोरोना महामारी से त्रस्त है, इस विपति का सामना संयमित रहकर करना चाहिए, केवल ताकत ही हर जंग को नही जिताती, ताकत के साथ बुद्धि का इस्तेमाल कर जो संघर्ष करता है वह सर्वशक्तिमान बनता है और हर जंग को जीतता है।"

आर्यिका गौरवमती माताजी ने अपने उदगार में कहा कि " ईश्वर ने इस सृष्टि में केवल संघर्ष को सबसे मजबूत बनाया है जिस किसी भी प्राणी ने संघर्ष के वस्त्रों को धारण कर लिया केवल वही प्राणी अपने जीवन को स्थिरता और मजबूती प्रदान कर सकता है। संघर्ष के वस्त्र पहनने का सौभाग्य भी हर किसी प्राणी को नसीब नही होता है लेकिन यह सौभाग्य इस बार कोरोना के रूप में सबसे जीवन मे आया है। इस विपदा के समय का सामना केवल संयमित रहकर ही किया जा सकता है और परिवार, समाज, देश और पृथ्वी की रक्षा की जा सकती है। रक्षा करना प्रत्येक प्राणी का धर्म होना चाहिए। अभी जो विपदा आई है उसमें प्रत्येक प्राणी को घर मे ही रुककर एक-दूसरे की रक्षा करनी चाहिए। इसलिए प्रत्येक प्राणी रक्षा धर्म का पालन करे और घर पर ही रुककर परिवार, समाज, देश और पृथ्वी की रक्षा करे।
माताजी ने अपने आशीर्वचन में कहा कि इस विपदा के समय में जीवन को स्थिर बनाने के लिए प्रतिदिन योगासन, परिवारासन, पूजनासन करे जीवन स्थिर भी होगा और मजबूत भी होगा साथ ही प्रत्येक प्राणी की रक्षा धर्म का पालन भी होगा। 

*अपील प्रत्येक नागरिक सरकार की एडवाजरी को फॉलो करें*

अखिल भारतीय दिगम्बर जैन युवा एकता संघ राष्ट्रीय अध्यक्ष अभिषेक जैन बिट्टू ने कहा कि धरती पर कोरोना महामारी का प्रकोप जारी है इसे रोकने के लिए प्रत्येक नागरिक को अपनी जिम्मेदारी समझते हुए घरो पर ही रुकना चाहिए और सरकार द्वारा जारी एडवाजरीयों को अपनाना चाहिए। केंद्र और राज्य सरकार सहित पूरा प्रशासन इस विपदा से निपटने के लिए लगातार संघर्ष कर रहे है और अपनी जिंदगी दाव पर लगाकर देश और समाज की रक्षा कर रहे है। अब हमारा भी कर्तव्य बनता है कि हम सब मिलकर इस विपदा से निपटने के लिए सरकार और प्रशासन का सहयोग करते हुए लॉकडाउन के नियमों का पालन करते हुए खुद को भी सुरक्षित रखे और अन्य लोगो को भी सुरक्षित रखें।