ALL देश /विदेश राज्य अपराध खेल मनोरंजन/सिनेमा लाइफ स्टाइल धर्म हिन्दी साहित्य शिक्षा कारोबार
राज्यपाल धनखड़ को यूनिवर्सिटी में तृणमूल समर्थित छात्रों ने काले झंडे दिखाए, कार्यक्रम में शामिल हुए बिना लौटे
January 29, 2020 • Dr. Surendra Sharma

कोलकाता। पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ को एक बार फिर छात्रों के विरोध का सामना करना पड़ा। मंगलवार को कोलकाता यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह में जाते समय तृणमूल समर्थित छात्रों ने उन्हें काले झंडे दिखाए। छात्रों ने कैंपस में उनकी कार को घेरकर 'गो बैक' के नारे लगाए। इसके बाद एजेंसी राज्यपाल कार्यक्रम में शामिल हुए बिना ही लौट गए।

कोलकाता यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह में नोबेल पुरस्कार विजेता अभिजीत बनर्जी को 'डी लिट' की उपाधि दी जानी थी। चांसलर के बतौर राज्यपाल जगदीप धनखड़ इसमें शामिल होने पहुंचे थे। कैंपस में नागरिकता कानून (सीएए) और नागरिकता रजिस्टर (एनआरसी) का विरोध कर रहे सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस समर्थक छात्रों ने उनकी कार को घेरकर नारेबाजी शुरू कर दी। इसके बाद पुलिसकर्मियों ने छात्रों को हटाया और राज्यपाल को ग्रीन रूम में ले गए। इस बीच, प्रदर्शनकारी दीक्षांत समारोह के लिए बने मंच के पास पहुंच गए। राज्यपाल ने कुछ देर इंतजार किया, लेकिन प्रदर्शन खत्म न होने पर वे कार्यक्रम में शिरकत किए बिना ही लौट गए।

पिछले महीने जादवपुर में भी हुआ धनखड़ का विरोधः पिछले महीने जादवपुर यूनिवर्सिटी में छात्रों ने राज्यपाल और केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो को काले झंड दिखाए थे। उस दौरान मंत्री सुप्रियो के साथ बदसलूकी भी हुई थी। इसके बाद राज्यपाल ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर उन्हें अलग-थलग करने का आरोप लगाया था। नोबेल विजेता अभिजीत बनर्जी को डी लिट की उपाधि: कोलकाता यूनिवर्सिटी ने इस समारोह में नोबेल पुरस्कार विजेता अभिजीत बनर्जी को डी लिट की उपाधि दी। कोलकाता यूनिवर्सिटी की कुलपति सोनाली चक्रबर्ती बनर्जी के मताबिक. सिनेट ने सर्वसम्मति से बनर्जी को यह उपाधि देने का फैसला किया था। राज्यपाल ने भी अपने ट्विटर हैंडल से बतौर चांसलर कार्यक्रम में शिरकत करने की बात कही थी। हालांकि उसके पहले ही विरोध की वजह से वे कार्यक्रम में शामिल नहीं हुए।