ALL देश /विदेश राज्य अपराध खेल मनोरंजन/सिनेमा लाइफ स्टाइल धर्म हिन्दी साहित्य शिक्षा कारोबार
राज्य सरकार द्वारा पेश किये गये 2020-21 के बजट पर भाजपा नेताओं ने प्रतिक्रियाऐं व्यक्त की
February 20, 2020 • Dr. Surendra Sharma

जयपुर, 20 फरवरी 2020। प्रदेश की कांग्रेस सरकार द्वारा आज गुरूवार को विधानसभा में विŸाीय वर्ष 2020-21 के लिए बजट पेश किया, जिस पर भाजपा नेताओं ने प्रतिक्रियाऐं व्यक्त करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने निराशाजनक बजट पेश किया। आँकड़ों के जाल में उलझाकर अपनी नाकामियों को छिपाने की असफल कोशिश की है।

नेता प्रतिपक्ष गुलाबचन्द कटारिया ने बजट पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि प्रदेश को निरोगी राजस्थान बनाने के लिए 100 करोड़ रूपए का बजट रखा गया है, वह ‘‘ऊँट के मुँह में जीरे’’ के समान है। फसल बीमा योजना में बीमा कम्पनी के रबि एवं खरीफ की फसलों के 1400 करोड़ रूपये बकाया है, जिसका बजट में कहीं भी प्रावधान नहीं किया गया है। बजट में किसानों को 8 घण्टे बिजली दो फेस (दिन-रात) में देने की बात कही है, जिसका 3 वर्ष में प्रबन्धन करेंगे, ऐसा कहना किसानों के साथ छलावा है। बजट में 15 मेडिकल काॅलेज खोलने की बात कहीं गई है, परन्तु केन्द्र सरकार द्वारा मेडिकल काॅलेज खोलने के लिए पहले ही 60 प्रतिशत राशि का अनुदान दिये जाने की बात कही जा चुकी है।

भारतीय जनता पार्टी के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष डाॅ. अरूण चतुर्वेदी एवं अशोक परनामी ने बजट प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि बजट में भी केन्द्र सरकार को कोसने का कोई मौका गहलोत ने छोड़ा नहीं, पर उन्होंने यह नहीं बताया कि केन्द्र सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं को वो राज्य में लागू क्यों नहीं कर रहे है। स्वास्थ्य के क्षेत्र में केन्द्रीय बजट की घोषणाओं को अपने कागज पर लिख कर राज्य के बजट में बोल रहे है, प्रत्येक जिले में मेडिकल काॅलेज खोलने की घोषणा केन्द्रीय बजट की है, प्रदेश में नये मेडिकल काॅलेज खोलने की घोषणा उसी की पुर्नावृति है।
विधायक एवं पूर्व चिकित्सा मंत्री कालीचरण सराफ ने बजट पर प्रतिक्रिया हुए कहा कि विधानसभा में प्रस्तुत किया गया बजट निराशा जनक है, जिसमें कोई घोषणा नहीं की गई। पिछले बजट में 75 हजार नौकरियाँ देने का वादा किया था, जो कि अभी तक भी पूरा नहीं किया गया है। इस बजट में किसानों के कर्जा माफी, बेरोजगार युवाओं को बेरोजगारी भŸाा देने की एवं बीसलपुर योजना से ब्राह्मणी नदी को जोड़ने की बात कहीं भी नहीं की गई।

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश मीडिया प्रभारी विमल कटियार ने बजट पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि व्यापार का सकारात्मक माहौल बनें इसके लिए भी इस बजट में कोई प्रावधान नहीं किया गया। यह बजट पूरी तरह प्रदेश के विकास को अवरूद्ध करने वाला, नौकरी और राहत की आशा करने वाले लोगों के लिए निराशाजनक रहा।

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश संगठन महामंत्री चन्द्रशेखर, प्रदेश उपाध्यक्ष डाॅ. अलका सिंह गुर्जर, प्रदेश महामंत्री भजनलाल शर्मा, वीरमदेव सिंह जैसास, कैलाश मेघवाल, प्रदेश मंत्री मुकेश दाधीच, पूर्व सांसद ओंकार सिंह लखावत, प्रदेश प्रवक्ता मुकेश पारीक, पंकज मीणा, जितेन्द्र श्रीमाली, लक्ष्मीकान्त भारद्वाज, पिंकेश पोरवाल, अमित गोयल, सम्पर्क प्रमुख आनन्द शर्मा, आर्थिक प्रकोष्ठ के सतीश सरीन, हरिशंकर गुप्ता, निति विषयक शोध विभाग के प्रदेश प्रमुख डाॅ. अखिल शुक्ला आदि कई भाजपा नेताओं ने इस बजट को निराशाजनक बजट बताया है और कांग्रेस सरकार ने प्रदेश की जनता को झुन्झुना पकड़ाया है।