ALL देश /विदेश राज्य अपराध खेल मनोरंजन/सिनेमा लाइफ स्टाइल धर्म हिन्दी साहित्य शिक्षा कारोबार
प्याज के दाम में मामूली राहत नई फसल आने पर आएंगी कीमतें काबू में
December 6, 2019 • Dr. Surendra Sharma

जयपुर। महंगे प्याज से आम लोगों की रसोई का जायका तो बिगड़ ही रहा है, जेब भी ढीली हो रही है। जयपुर में गुरुवार को थोक में प्याज की कीमत 70 रुपए किलो रही। हालांकि इसमें करीब पांच रुपए की कमी आई। हालांकि, सरकार को उम्मीद है कि प्याज की कीमत जल्द काबू में होंगी। उल्लेखनीय है कि इस बार अतिवृष्टि व बेमौसम बरसात के कारण प्याज की फसल को नुकसान हुआ है। वहीं जानकारों के अनुसार नई फसल आने में अभी करीब एक माह लगेगा तब तक प्याज की कीमतों में ज्यादा राहत मिलने की उम्मीद कम ही है। मुहाना मंडी के अध्यक्ष राहुल तंवर ने बताया कि मुहाना मंडी में प्याज अलवर से आ रहा है। यहां प्रदेश के अन्य जिलों से प्याज की आवक नहीं हो रही है। उन्होंने कहा कि नई फसल को आने में करीब एक माह का समय लगेगा। तब तक प्याज की कीमतों में कमी आने की उम्मीद कम ही है। हालांकि केंद्र सरकार ने इसके लिए कदम उठाए हैं। केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा है कि प्याज की कीमतों को नियंत्रित करने के लिए सरकार ने कई तरह के कदम उठाए हैं। निर्मला सीतारमण ने बुधवार को लोकसभा में कहा कि मिस्र और तुर्की से प्याज का आयात किया जा रहा है। केंद्र सरकार ने जमाखोरी रोकने के लिए प्याज की स्टॉक तय करने के साथ ही आयात से जुड़े नियमों में भी 31 दिसंबर तक ढील दी हैकोलकाता में बुधवार को प्याज की कीमत 150 रुपए किलो पर जा पहुंची। वहीं अन्य सब्जियों के भावों में भी तेजी है। लहसुन के भाव थोक में 140 से 150 रुपए बने हुए हैं। तो मटर 40 रुपए तो बालोड़ 27 तथा शिमला मिर्च 20 से 25 रुपए किलो तक बिक रहा है।