ALL देश /विदेश राज्य अपराध खेल मनोरंजन/सिनेमा लाइफ स्टाइल धर्म हिन्दी साहित्य शिक्षा कारोबार
पृथ्वीराज नगर के गरीबों पर मार तथा भूमाफियाओं को मालामाल  करने का सरकार का फैसला शर्मनाक: राजपाल सिंह शेखावत
January 30, 2020 • Dr. Surendra Sharma



जयपुर, 30 जनवरी 2020। पूर्व नगरीय विकास मंत्री राजपाल सिंह शेखावत ने सरकार के पृथ्वीराज नगर क्षेत्र की आवासीय काॅलोनियों के नियमन एवं विकास दर बढ़ाने के सरकार के फैसले की कड़ी निंदा की है।

शेखावत ने कहा कि एक ओर सरकार द्वारा 100 वर्गगज तक के गरीब लोगों के नियमन एवं विकास शुल्क पर 20 प्रतिशत से ज्यादा की बढ़ोतरी की है, वहीं दूसरी ओर भूमाफियाओं के 1000 वर्गगज से बड़े भूखण्डों का कब्जा लेने की बजाय नियमितिकरण का फैसला दुर्भाग्यपूर्ण है।

शेखावत ने कहा कि सरकार ने अपने इस फैसले से गरीबों की जेब काटने एवं भूमाफियाओं की जेबें भरने का काम करके अपना असली चेहरा जनता के सामने बेनकाब कर दिया है। उन्होंने याद दिलाया कि पूर्ववर्ती भाजपा सरकार द्वारा अन्तिम रूप से अवाप्त जमीन के नियमितिकरण करने का निर्णय केवल गरीब लोगों द्वारा आवास बना लिये जाने के कारण मानवीय आधार पर लिया था तथा इसीलिये नियमितिकरण एवं विकास की दर को गरीब द्वारा सहन किये जाने योग्य बनाया था तथा 1000 वर्गगज से ऊपर के भूमाफियाओं के भूखण्डों को कब्जे में लेकर उनके बेचान से राजस्व प्राप्त कर पृथ्वीराज नगर के विकास की एकीकृत योजना तैयार की थी। इस ‘‘राजस्व माॅडल‘‘ को सरकार द्वारा भूमाफियाओं से मिलकर नेस्तनाबूत कर विकास के नाम पर गरीब के सिर पर भार डालने का यह जो काम किया है बेहद शर्मनाक है।

शेखावत ने कहा कि जेडीए नियमितीकरण के रूप में 1250 करोड़ रूपयों से ज्यादा पृथ्वीराज नगर के निवासियों से वसूल कर चुका है लेकिन गत एक वर्ष से क्षेत्र में विकास का कार्य पूर्ण रूप से ठप्प पड़ा है तथा इस पैसे को अन्यत्र खर्च कर दिया गया है। सरकार तथा जेडीए अपनी अदूर्दर्शिता एवं अक्षमता के चलते आर्थिक रूप से टूट चुका है तथा अपनी इस अकर्मण्यता का गरीब के कंधे पर भार डाल कर अपना रोजमर्रा का खर्च चलाना चाहता है।

शेखावत ने कहा कि पूर्ववर्ती भाजपा सरकार द्वारा पृथ्वीराज नगर के विकास की एक समग्र एकीकृत योजना तैयार की गयी थी जिसके अन्तर्गत मुख्य सड़कों पर सुविधाओं हेतु भूमिगत डक्ट का निर्माण, पेयजल, सिवरेज, हाईटेंशन लाईन का भूमिगतकरण तथा सड़क एवं नाली के वृहत संरचना निर्माण द्वारा इसे प्रदेश की सर्वाधिक विकसित काॅलोनी के रूप में तब्दील करने की योजना को इस सरकार ने तिलांजली दे दी है तथा फोरे तौर पर काम कर अपना खजाना भरने की कोशिश कर रही है।

शेखावत ने कहा कि जेडीए दिवालियेपन के कगार पर है तथा अपने कर्मचारियों के वेतन के लिये भी उसे जुगाड़ करना पड़ रहा है। इसीलिये पूर्ववर्ती भाजपा सरकार की सारी योजनाओं को या तो बन्द कर दिया गया है अथवा पूर्णतः शिथिल कर दिया गया है। द्रव्यवती नदी के सौंदर्यकरण की योजना, झोटवाड़ा एलिवेटेड रोड़, सोडाला-अम्बेडकर सर्किल एलिवेटेड रोड़ का काम लगभग ठप्प है। नये आर.ओ.बी./फ्लाई ओवर तथा रेड लाईट फ्री रोड्स करने के पूर्ववर्ती सरकार के फैसले पर यह सरकार कोई काम नहीं कर पायी है। स्मार्ट सिटी के काम तथा अमृत योजना के तहत कोई भी काम गति नहीं पकड़ पाया है। ऐसी स्थिति में पृथ्वीराज नगर योजना के निवासियों की जेब पर डाका डालकर अपना काम चलाने की सरकार की कोशिश का जनता जमकर विरोध करेगी तथा पृथ्वीराज नगर के क्षेत्र में विकास शुरू करने के लिये सरकार को मजबूर करेगी।