ALL देश /विदेश राज्य अपराध खेल मनोरंजन/सिनेमा लाइफ स्टाइल धर्म हिन्दी साहित्य शिक्षा कारोबार
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की देश के बच्चों से 'परीक्षा पर चर्चा' में जोधपुर के दो बच्चों ने लिया हिस्सा
January 22, 2020 • Dr. Surendra Sharma

एजेंसी

जोधपुर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को देश के बच्चों से परीक्षा पर चर्चा' की। दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में हुए इस आयोजन में देश भर से दो हजार बच्चे शामिल हुए थे। इनमें जोधपुर से दो बच्चे शामिल हुए। केवी नं. 1 एयरफोर्स से ईशा दाधीच और डीपीएस से झव अग्रवाल।

केवी नंबर 1 एयरफोर्स में कक्षा नौंवी में पढ़ने वाली ईशा ने बताया, हमें रिहर्सल के लिए 16 जनवरी से ही दिल्ली बुला लिया था। उन्हें बताया गया कि उनकी परफॉर्मेस प्रधानमंत्री के आने से पहले ही हो जाएगी। जिससे एक बार तो निराशा हुई लेकिन कार्यक्रम से एक दिन ही पहले ईशा को बताया गया कि उन्हें और बंगलुरू की एक स्टूडेंट को प्राइम मिनिस्टर का वेलकम करना है। सोमवार को जैसे ही पीएम मोदी की गाड़ी स्टेडियम पहुंची तो शिक्षा मंत्री बाईट को प्राइम मिनिजैसे ही पीएम मोदी रमेश पोखरियाल और अन्य अधिकारियों के साथ ही ईशा ने भी उनका स्वागत कियाईशा कला प्रदर्शनी की विजिट के दौरान भी उनके साथ रहीं। ईशा ने बताया, प्रधानमंत्री ने मुझसे

ईशा ने बताया, प्रधानमंत्री ने मुझसे पछा कि आप कहां से हैं? जोधपर का नाम सुनते ही पीएम ने कहा कि फिर तो आपको दिल्ली में बहुत ठंड लग रही होगी। मैंने कहा कि इस बार तो जोधपुर में भी बहुत ठंड है तो उन्होंने मजाकिया अंदाज में कहा, हां, राजस्थान के लोग तो वैसे ही स्ट्रांग होते हैं। ठंड का इन पर ज्यादा फर्क नहीं पड़ता। ईशा शास्त्री नगर निवासी बिजनेसमैन पीएन दाधीच और कीर्ति दाधीच की इकलौती बेटी हैं

भोपाल में हुए कला उत्सव में ईशा की 'भो शम्भो' की शानदार प्रस्तुति से प्रभावित होकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अगुवाई के लिए उसका सलेक्शन हुआ था। ईशा की मां कीर्ति ने बताया, वह डांस टीचर रजनी शर्मा कीर्ति ने से भरतनाट्यम सीख रही हैं और क्लासिकल डांस सीखने का इतना शौक है कि चार बजे की क्लास के लिए वह दो बजे ही तैयार हो जाती है। कीर्ति ने बताया, स्कूल के प्रिंसिपल विवेक यादव ने ईशा को आगे बढ़ने के लिए खूब इंट्रेस्ट दिखाया और उसे प्रोत्साहित किया। कल्चरल प्रोग्राम के लिए सलेक्शन की सूचना भी सबसे पहले उन्होंने ही दी थी। ध्रुव को

ध्रुव को नहीं मिला सवाल पूछने का नहीं मौकाः दिल्ली पब्लिक स्कूल के झव अग्रवाल भी इस प्रोग्राम के लिए चयनित हुए थे। ध्रुव ने बताया, तालकटोरा स्टेडियम में पीएम को सुनते हुए दो घंटे कैसे गुजर गए पता ही नहीं लगा। उन्होंने शुरू से ही सभी बच्चों को अपनी बातों से कनेक्ट कर लिया। बतौर ध्रुव, 'मुझे उनकी सबसे अच्छी बात लगी कि बच्चों को बार-बार अपना टाइम टेबल बदल कर मां को परेशान नहीं करना चाहिए। पीएम ने जब बच्चों की बहानेबाजी से जुड़ी बातें की तो खूब ठहाके भी लगे।

। ध्रुव ने कहा, हालांकि मुझे उनसे सवाल पूछने का अवसर नहीं मिला लेकिन मैं ट्वीट कर उनसे यह सवाल जरूर पूछूगा कि पढ़ाई में आने वाले डिस्ट्रेक्शन्स को कैसे दूर किया जाए।' झव बिजनेसमैन अमित अग्रवाल के बेटे हैं।