ALL देश /विदेश राज्य अपराध खेल मनोरंजन/सिनेमा लाइफ स्टाइल धर्म हिन्दी साहित्य शिक्षा कारोबार
मेवात में बनकर जयपुर में सप्लाई हो रहा था नकली पनीर, दो हजार किलो सिन्थेटिक पनीर की खेप पकड़ी
November 21, 2019 • Dr. Surendra Sharma

कार्यालय संवाददाता

जयपुर। ग्रामीण जिले में चंदवाजी थाना पुलिस व क्राइम ब्रांच की संयुक्त टीम ने मिलावटी खाद्य सामग्री बनाकर सप्लाई करने वाले बड़े गिरोह का पर्दाफाश करते हुए चार मिलावटखोरों को गिरफ्तार किया है। बुधवार अलसुबह अलवर के मेवात क्षेत्र में तैयार मिलावटी पनीर जयपुर शहर में खपाने हेतु लाया जा रहा था। पुलिस टीम ने गैंग के कब्जे से 2 हजार किलो सिन्थेटिक पनीर की खेप व 2 पिकअप जप्त कर ली है। ___ पुलिस अधीक्षक जयपुर ग्रामीण शंकर _दत्त शर्मा ने बताया कि अलवर से भारी मात्रा में नकली पनीर जयपुर शहर व आसपास के क्षेत्रों में सप्लाई होने की पुख्ता जानकारी प्राप्त होने पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मुख्यालय ज्ञान चंद यादव को मिलावट के जिम्मा सौंपा गझन दो दुकानों पर सप्लाई बायोमेडिकल्स ने भारत श्वेतांबर इस पूरे नेटवर्क का पर्दाफाश करने का अतर सिंह के नेतृत्व में गठित टीम ने जिम्मा सौंपा गया। अलवर के मेवात क्षेत्र से जयपुर शहर में जयपुर में इन दो दुकानों पर सप्लाई दादी का फाटक स्थित कोमल पनीर उद्योग होना था नकली पनीरः एसपी शंकरदत्त व शास्त्री नगर के बरसाना पनीर भंडार में शर्मा ने बताया कि बुधवार को कार्यालय की सप्लाई होने आए 2000 किलो सिंथेटिक क्राइम ब्रांच की स्पेशल टीम के एएसआई पनीर की खेप को जप्त कर लिया। हेमराज व चंदवाजी थाने के उपनिरीक्षक ये है गिरफ्तार आरोपी, अलवर से पनीर की सप्लाई करते थे मिलावटी पनीरः एडिशनल एसपी ज्ञानचंद यादव ने बताया कि इस गोरखधंधे में लिप्त चार शातिर मिलावटखोर अलवर जिले में थाना नौगांवा निवासी शौकत, इमरान व अब्दुल मेव तथा थाना फिरोजपुर जिला नूंह हरियाणा निवासी शरीफ है। सिंथेटिक पनीर की जांच हेतु केंद्रीय खाद्य सरक्षा विभाग के आयक्त केके शर्मा को जानकारी दी गई है। जिन्होंने एक दल को कार्रवाई हेतु मौके पर भेजा। टीम ने पनीर की जांच कर सैंपल लिये। जांच दल द्वारा पनीर को सिंथेटिक पाए जाने पर त्वरित कार्रवाई करते हुए मौके पर ही नष्ट किया गया। जयपुर ग्रामीण एसपी की अपील, मिलावट खोरों के खिलाफ दें पुलिस को सूचनाः पुलिस अधीक्षक शंकरदत्त शर्मा ने आमजन से अपील भी की कि इस तरह के अपराधों पर नजर रखें और पुलिस को खबर करें, ताकि मिलावट खोरी कर लोगों के स्वास्थ्य खिलवाड़ करने वालों के खिलाफ प्रभावी कार्रवाई की जा सके। उन्होंने बताया कि सिंथेटिक खाद्य पदार्थों के उपयोग से एसिडिटी, पेट में अल्सर, लिवर व किडनी पर घातक प्रभाव के साथ कैंसर जैसे असाध्य रोग हो जाते हैं। इसलिए लीग जयपर निगरानी रखें। इनमें पहला यह कि पब्लिक के लिए कोई कॉमन नंबर देंगे। इससे वो अपनी शिकायत दर्ज करवा सकें। शिकायतकर्ता का नाम गुप्त रखा जाए। जो ट्रेप करवाते है। ऐसे लोग जो तकलीफ में है। ट्रेप करवाने के बाद संबंधित विभाग उनको तंग नहीं करे। उनके काम आसानी से होइसके लिए सरकार ऐसी व्यवस्था करेगी कि ट्रेप करवाने के बाद फिर कोई विभाग उन्हें तकलीफ नहीं हो। वह कहीं वह फंस ना जाए। उसके काम हो। सरकार ऐसा प्रयास करेगी। सीवीसी व सीवीओ सिस्टम को मजबूत करेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि एसीबी अच्छा काम कर रही है। भ्रष्टाचार केसों को लेकर सीएम ने कहा कि आय से अधिक संपत्ति की शिकायतों का सर्वे करवाया जाएगा। एसीबी का तंत्र और मजबूत किया जाएगा। सीएम ने कहा कि आम बोलचाल में एक जुमला होता है कि सब छोटी मछली पकड़ते है। बड़ी मछली नहीं। लेकिन ऐसा नहीं है। एसीबी सिर्फ छोटी ही नहीं, बड़ी भी पकड़ेगी। वहीं, एसीबी को अब वित्त विभाग से ट्रांसक्रिप्शन सॉफ्टवेयर की स्वीकृति भी दे दी गई है। सीएम की सराहना से एसीबी के अधिकारी भी खुश नजर आए।