ALL देश /विदेश राज्य अपराध खेल मनोरंजन/सिनेमा लाइफ स्टाइल धर्म हिन्दी साहित्य शिक्षा कारोबार
मरीजों को कतारों से मिली मुक्ति, घर बैठे ही मिल रहा परामर्श
September 12, 2020 • Dr. Surendra Sharma

ई संजीवनी ओपीडी सेवा से परामर्श हुआ सुलभ

मरीजों को कतारों से मिली मुक्ति, घर बैठे ही मिल रहा परामर्श

जयपुर  12 सितम्बर। वैश्विक महामारी कोरोना के चलते आमजन को घर बैठे परामर्श सेवाओं के लिए राज्य सरकार द्वारा ई संजीवनी ओपीडी सेवा शुरू की गई है, जिससे अस्पतालों में भीड नियंत्रण कर कोरोना खतरे को कम किया जा सके और आमजन को सुलभता और सरलता से परामर्श सेवा प्राप्त हो सके। 

 

सीएमएचओ डॉ. हंसराज भदालिया ने बताया कि प्रदेशभर में ई-संजीवनी ओपीडी सेवा शुरू की गई है जिसमें विभिन्न अस्पतालों में चिकित्सक प्रातः 8.30 बजे से दोपहर 2 बजे तक निशुल्क परामर्श सेवा प्रदान कर रहे हैं। कोरोना संक्रमण से बचाने और मरीजों को असहजता से बचाने के लिए यह सेवा शुरू की गई है। 

सीएमएचओ ने बताया कि ई संजीवनी ओपीडी सेवा का लाभ ऑडिओ के साथ वीडियों कॉल पर भी उपलब्ध है। सुविधा का लाभ कम्प्यूटर, लैपटॉप, टेबलेट के साथ वेब कैमरा, माईक, स्पीकर और इंटरनेट कनेक्शन की सहायता से उठाया जा सकता है। इस सुविधा का लाभ मोबाईल के जरिये भी लिया जा सकता है। रोगी को पंजीयन के बाद जो टोकन नंबर मिलेगा, उसे लॉगइन करने के बाद डॉक्टर के परामर्श की प्रक्रिया शुरू होगी। यदि इस दौरान परामर्शदाता डॉक्टर को विशेषज्ञ सलाह की जरूरत होगी तो टेलीमेडिसन सुविधा का भी उपयोग किया जा सकता है। 

 

जिले के चयनित अस्पताल

सीएमएचओ ने बताया कि ई-संजीवनी ओपीडी सेवा में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र चाकसू और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र फुलेरा का चयन किया गया है, जिसके चिकित्सकों द्वारा ऑनकॉल परामर्श सेवाऐं दी जा रही हैं। 

 

यहां करें रजिस्ट्रेशन

उन्होंने बताया कि बेव पोटर्ल पर जाकर संजीवनी डॉट इन टाईप करना है, जिसके बाद रजिस्ट्रेशन पर क्लिक किया जायेगा। जहां मरीज को अपनी जानकारी और मोबाईल नंबर एंटर करने होंगे, जहां मोबाईल नंबर पर ओटीपी आयेगा। जिसे सेव करना होगा। जिसके बाद बेव पोर्टल पर ही इस संजीवनी बेवसाईट पर मरीज अपने मोबाईल नंबर और पासवर्ड में उसे मिले टोकन नंबर डालकर लॉगइन करेगा, तत्पश्चात उसे जिस डॉक्टर से परामर्श लेना है उसकी जानकारी एंटर करनी पडे़गी और लगभग 10-15 मिनट के अन्दर मरीज को परामर्श मिल जायेगा। उन्होंने बताया कि इस प्रक्रिया को कोई भी कर सकता है और सीधे मरीज को चिकित्सक से परामर्श दिला सकता है।