ALL देश /विदेश राज्य अपराध खेल मनोरंजन/सिनेमा लाइफ स्टाइल धर्म हिन्दी साहित्य शिक्षा कारोबार
महापर्व पर्युषण उत्तम आर्जव धर्म के रूप में मनाया
August 25, 2020 • Dr. Surendra Sharma

                                                                       झुमरीतिलैया / कोडरमा। जैन समाज के द्वारा जैन धर्म का महापर्व पर्युषण का तीसरा दिन उत्तम आर्जव धर्म के रूप में मनाया गया शहर में स्थित दोनों जैन मंदिर डॉक्टर गली बड़ा मंदिर जी और पानी टंकी रोड में स्थित जैन मंदिर में स्थानीय पंडित अभिषेक शास्त्री और चयनित श्रावक अजय जैन बॉबी सेठी के द्वारा विश्व शांति मंत्रों के जल से भगवान का अभिषेक और शांति धारा किया गया महिला और बच्चों ने जूम एप के द्वारा मंदिर के अभिषेक और पूजन को देखा पर्यूषण पर्व के विशेष दिनों में जैन समाज की महिलाएं पुरुष बच्चे सुबह से ही पर्युषण महापर्व पर पूजन पाठ भगवान की भक्ति भाव में लीन हो जाते हैं आज अभिषेक और शांति धारा के तत्पश्चात जैन समाज के सैकड़ों लोगों ने जूम एप और फेसबुक के माध्यम से मध्यप्रदेश के भिंड जिला में विराजमान जैन संत आचार्य विराग सागर जी की अमृतवाणी को सुना कि आचार्य गुरुदेव ने अपने प्रवचन में आर्जव धर्म पर प्रकाश डालते हुए कहा कि व्यवहार में सरलता और कोमलता लाना ही आर्जव धर्म है सरल परिणाम व्यक्ति ही सफलता के शिखर पर पहुंच सकता है जो व्यक्ति जितना अधिक लचीला होगा उसे काम करने में उतनी ही आसानी होगी।.                                     साधु होना सरल है परंतु सरल होना बहुत कठिन है व्यक्ति को सरल बच्चों की तरह होना चाहिए बच्चों का मन कभी भी कुटिल नहीं होता है सरल स्वभाव ही होता है उनके मन में किसी तरह का पाप नहीं होता है पवित्रता सीता जैसी हो उदारता ऐसी हो की लेने वाला थक जाए परंतु देने वाला नहीं थके आर्जव धर्म प्रकृति और स्वभाव का ज्ञान कराता है जो व्यक्ति ना कुटिल वचन बोलता है ना कुटिल क्रिया करता है वही अपने जीवन मैं आर्जाव धर्म का पालन कर सकता है जो व्यक्ति मन वचन काया से कुटिल होता है मायाचारी होता है वह व्यक्ति हमेशा दुखी रहता है माया व्यक्ति को धूर्तता के शिखर पर ले जाती है तो सरलता व्यक्ति को महानता के शिखर पर ले जाती है सरलता दिव्यता का द्वार है यदि व्यक्ति सच्चा सुख चाहता है तो उसके निज के सरलता से ही यह सब प्राप्त हो सकता है सरलता में आत्मशक्ति का अक्षय भंडार का समावेश है इसलिए हमें अपने जीवन में सरलता को स्वीकार करना चाहिए और आर्जव धर्म को को ग्रहण करना चाहिए निवर्तमान वार्ड पार्षद पिंकी जैन ने गुरुदेव आचार्य विराग सागर जी को शत शत नमन करते हुए कहा कि हमें आचार्य श्री की वाणी को अपने जीवन में आत्मसात करना चाहिए तभी हमारा जीवन सफल हो सकेगा सरल और सहज बनकर ही हम अपना कल्याण कर सकते हैं और इस भागमभाग जिंदगी में सुकून और शांति को प्राप्त कर सकते हैं निर्वतमान वार्ड पार्षद पिंकी जैन जैन समाज के उपाध्यक्ष प्रदीप जैन पांड्या जयकुमार जैन गंगवाल सुरेश झंझरी मनीष जैन सेठी संदीप जैन सेठी सुशील जैन छाबड़ा प्रदीप जैन छाबड़ा प्रमोद जैन दीपक जैन ने पर्यूषण पर्व की लोगों को शुभकामनाएं व्यक्त की संध्या में जैन महिला समाज और जैन युवक समिति के तत्वाधान में बच्चों का फैंसी ड्रेस प्रतियोगिता प्रशम जैन सेठी के द्वारा जूम एप के द्वारा किया जाएगा। जैन समाज मीडिया प्रभारी राजकुमार अजमेरा नवीन जैन