ALL देश /विदेश राज्य अपराध खेल मनोरंजन/सिनेमा लाइफ स्टाइल धर्म हिन्दी साहित्य शिक्षा कारोबार
कोरोना से डरे नहीं, परा विभाग है सजग और चौकन्नाः चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री
March 5, 2020 • Dr. Surendra Sharma

कार्यालय संवाददाता

जयपुर। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने बुधवार को विधानसभा में बताया कि कोरोना वायरस हालांकि वैश्विक आपदा घोषित हो चुका है लेकिन प्रदेश की आमोआवाम इससे डरें नहीं। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग इसकी रोकथाम के लिए पूरी तरह सजग और चौकन्ना है।

डॉ. शर्मा शून्यकाल के दौरान इस विषय पर अपना वक्तव्य दे रहे थे। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार द्वारा कोरोना की जांच के लिए 2 फरवरी से जयपुर के एसएमएस मेडिकल कॉलेज के माइक्रोबायोलोजी विभाग में जांच सविधा प्रारंभ करवा दी थी। अब प्रदेश के सभी छह राजकीय मेडिकल कॉलेज के अलावा झालावाड़ मेडिकल कॉलेज में भी कोरोना की जांच की व्यवस्था शुरू कर दी हैउन्होंने बताया कि एसएमएस लैब में अब तक 113 नमूनों की जांच की गई। जांचे गए नमूनों में से 98 नेगेटिव और 1 पॉजिटिव पाया गया तथा 1 की प्रारम्भिक जांच में पॉजिटिव पाए जाने पर कन्फर्म जांच के लिए पुणे लैब में रक्त का नमूना भेजा गया है, जबकि 13 का परिणाम आना शेष है।

चिकित्सा मंत्री ने बताया कि कोरोना वायरस के संदिग्ध रोगियों को उपचार करने के लिए जयपुर के एसएमएस अस्पताल में अलग से 30 बेड्स का आइसोलेशन वार्ड की सुविधा है। इसके अलावा सभी मेडिकल कॉलेजों व जिला अस्पतालों में आइसोलेशन बेड्स की सुविधा उपलब्ध करवाई जा रही है।

डॉ. शर्मा ने बताया कि कोरोना वायरस की रोकथाम व नियंत्रण और बचाव के लिए सांगानेर अन्तर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट पर आने वाली सभी अन्तराष्ट्रीय उड़ानों में आए यात्रियों की स्क्रीनिंग 28 जनवरी से की जा रही है। एयरपोर्ट पर 5 चिकित्सक व 5 नसिंग स्टाफ का दल स्क्रीनिंग में जुटा है। उन्होंने बताया कि वर्तमान में सांगानेर एयरपोर्ट पर शारजाह, दुबई, क्वालालम्पुर, मस्कट, ओमान, थाईलैंड व बैंकाक देश से डायरेक्ट फ्लाइट आती है। उनकी भी नियमित स्क्रीनिंग की जा रही है।

चिकित्सा मंत्री ने बताया कि अब तक सांगानेर एयरपोर्ट जयपुर पर 168 एयरक्रॉफ्ट के 24,832 यात्रियों की स्क्रीनिंग की गई है, जिनमें से 77 यात्री प्रभावित देशों से आए हैं, इनमें से 9 लोगों को लक्षण पाए जाने पर जांच कराई गई जो नेगेटि नेगेटिव पाए गए।

उन्होंने बताया कि वर्तमान में विश्व में यह रोग लगभग 75 देशों में फैल चुका है। रोग का अत्यधिक प्रसार प्रथमतः चीन देश हुआ है तथा वर्तमान में अब चीन के साथ-साथ ईरान, इटली, हांगकांग, सिंगापुर, दक्षिण कोरिया, जापान, वियतनाम, मलेशिया व नेपाल आदि में रोग फैल चुका । उन्होंने बताया कि विश्व में अब तक 90,870 केसेज में 3143 मृत्यु हो चुकी । शर्मा ने बताया कि भारत सरकार द्वारा 3 मार्च को दी गई सूचना के अनुसार देश में एक विदेशी नागरिक (इटली) सहित कुल 6 रोगी (केरल-3, दिल्ली-1, तेलंगाना-1 एवं राजस्थान-1 (इटली निवासी) पॉजिटिव पाए गए हैं। प्रदेश में अब तक कुल 1 रोगी इटली निवासी एन्ड्री कॉरली, उम्र 69 वर्ष प्रदेश में कोरोना पॉजीटिव पाया गया है तथा एन्ड्री कॉरली की पत्नी श्रीमती लोमबार्डीया पीनोकिया भी प्रारम्भिक जांच पॉजीटिव पायी गई है तथा कन्फर्मेशन टेस्ट के लिए श्रीमती लोमबार्डीया पीनोकिया की ब्लड की जांच नेशनल वायरोलोजी लैब पूणे भिजवाई गई है, जिनकी रिपोर्ट अभी आना बाकी है।

चिकित्सा मंत्री ने बताया कि कोरोना प्रभावित देशों से आने वाले यात्रियों मे लक्षण पाये जाने पर उन्हे आईसोलेशन वार्ड में भर्ती कर जांच, निगरानी व उपचार किया जा रहा है। अब तक कुल 89 यात्रियों को संबंधित जिले के मेडिकल कॉलेजा/जला अस्पताल में जांच एवं उपचार के लिए भर्ती करवाया गया है, जिनमे से 67 को लक्षण होने एवं शेष को निर्देशानुसार चीन के अधिक प्रभावित क्षेत्र वुहान से आने के कारण एहतियात के तौर पर लक्षण नही होने पर भी भर्ती कर जांच किया गया।

डॉ. रघु शर्मा ने बताया कि प्रदेश में कोरोना वायरस की रोकथाम व उपचार हेतु चिकित्सा संस्थानों पर पर्सनल प्रोटेक्टीव इक्यूपमेंट (पीपीई किट), एन-95 मास्क, ट्रिपल लेयर मास्क, पर्याप्त मात्र में उपलब्ध करवाए गए हैं। पर्सनल प्रोटेक्टीव इक्यूपमेंट (पीपीई) किट मंप मास्क, गाउन, कैप, ग्लवस, शू कवर, गोग्लस होते । दो प्रकार के मास्क होते हैं ट्रिपल लेयर मास्क आमजन के उपयोग के लिए और दूसरा एन-95 रोगी व रोगी के उपचार करने वाले चिकित्सक अन्य मेडिकल स्टॉफ के उपयोग के लिए काम में आता है। इटली के पर्यटक दल के बारे में उन्होंने क बार म उन्हान बताया कि एन्ड्री कॉरली, पुरूष, उम्र 69 वर्ष निवासी ईटली कोरोना वायरस से पॉजीटिव पाए गए।