कोरोना महामारी के साथ किसानों के ऊपर दोहरी मार
March 27, 2020 • Dr. Surendra Sharma
कोरोना महामारी के साथ किसानों के ऊपर दोहरी मार
- बेमौसम हो रही बारिश से किसानों की फसलें हो रही खराब
- बारिश से हो रही खड़ी फसलें खराब तो इधर लॉकडाउन के चलते व्यापारी नही आने से अनार हो रही खराब
गेबाराम चौहान
सायला। उपखंड क्षेत्र के आस पास के गांवों में बेमौसम हुई बारिश से किसान चिंतित है। क्षेत्र में पिछले सोमवार को हुई बारिश ने इसबगौल की फसलों को काफी नुकसान पहुंचाया। वही गुरुवार को फिर हुई बारिश ने फसलों को पूरी तरह तबाह कर दिया है। एक तरफ कोरोना वायरस के चलते चल रहे लॉक डाउन की वजह से किसानों को काफी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। किसानों के खेत मे खड़ी अनार की फसल खराब हो रही है। लॉक डाउन के चलते अनार को खरीदने हेतु कोई व्यापारी नही आ रहे है। फिर भी किसान प्रधानमंत्री मोदी के आह्वान पर कोरोना महामारी से लड़ने को तैयार है। लोग लॉक डाउन के चलते घरों में कैद है। इसी बीच बेमौसम हो रही बारिश ने किसानों की चिंता और बढ़ा दी है। बेमौसम हुई बारिश से किसानों के खेत में खड़ी इसबगौल, जीरा व गेहूं की फसल पूरी तरह तबाह हो रही है। क्षेत्र के साँगाणा, जीवाणा, मेंगलवा, आलवाड़ा, तालियाणा, दहिवा, खेतलावास सहित सायला क्षेत्र भर में कही जगह किसानों के खेत में खड़ी इसबगोल, गेंहू जीरा आदि फसलों को भारी नुकसान हुआ है।
टिड्डी कहर के बाद बारिश की मार
क्षेत्र में हुई बेमौसम बारिश से किसानों की फसलें नष्ट हो गयी है। तकरीबन दो माह पूर्व क्षेत्र में किसानों के खेत मे टिड्डियों के हमले से काफी नुकसान हुआ था। क्षेत्र में टिड्डी प्रकोप से किसानों के खेत मे खड़ी जीरा, इसबगौल, सरसों सहित फसलों को काफी नुकसान हुआ था। वही किसानों की कड़ी मेहनत से जो बहुत फसल बची थी। वह अब पककर तैयार हुई थी कि बेमौसम हुई बारिश ने वह फसल भी खराब कर दी है। जिससे किसानों को काफी आर्थिक नुकसान हुआ है।
पक्की अनार हो रही खराब
एक तरफ बेमौसम हो रही बारिश से खेत मे खड़ी फसल खराब हो रही है। वही लॉकडाउन के चलते व्यापारी नही आने से किसानों के खेत में खड़ी अनार की फसलें भी खराब हो रही है। फिलहाल क्षेत्र में किसानों के खेतों में कई हेक्टर में अनार की फसल पककर तैयार हो गयी है। इसमे पक्की हुई अनार कुछ ही समय बाद अगर नही बेची गयी तो खराब हो जाएगी। वही जिन किसानों के खेत मे पहले ही फसल पककर तैयार हो चुकी है। वह अब व्यापारी नही आने की वजह से खराब हो रही है। वही इसके साथ ही बेमौसम हो रही बारिश ने किसानों की चिंता ओर बढ़ा दी है।
 
इनका कहना
मेरे बेरे के आसपास काफी किसानों के खेत में फसलों को नुकसान हुआ है। जिसमें इसबगोल, जीरा, गेहूं आदि फसलें चौपट हो गई है।
उत्तम परिहार, किसान मेंगलवा
 
बेमौसम हुई बारिश ने किसानों की फसलों को बर्बाद कर दिया है। पीड़ित किसानों को अब सरकार ही राहत पहुंचा सकती है।
अम्बाराम चौहान, किसान साँगाणा