कटारिया ने जिले में कोरोना संक्रमण की रोकथाम एवं बचाव के दिये निर्देश
May 9, 2020 • Dr. Surendra Sharma

कटारिया ने जिले में कोरोना संक्रमण की रोकथाम एवं बचाव के दिए निर्देश
-वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में रहे सभी अधिकारी मौजूद
पाली 9 मई। ( महावीर  दाधीच ) पाली के प्रभारी मंत्री लालचन्द कटारिया ने जिले में कोरोना संक्रमण की रोकथाम एवं बचाव के साथ ही पानी, बिजली, टिड्डी नियंत्रण, चिकित्सा एवं राशन व्यवस्था के संबंध में विस्तार से समीक्षा कर अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए।
उन्होंने कहा कि जिले में बाहर से आने वाले प्रवासियांे को किसी भी प्रकार की दिक्कत नहीं होनी चाहिए। उनके रहने व खाने की भी सभी व्यवस्थाएं की जाएं। उन्होंने कहा कि कुछ गांवों में लोगों को गांव के अंदर नहीं आने दिया जा रहा है तथा पड़ौसी भी अडचने पैदा कर रहे है ऐसे में उनके रहने व खाने पीने की व्यवस्था की जानी आवश्यक है। उन्होंने कहा कि राशन डीलर के माध्यम से राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा से जुड़े लोगों तक गेहूं व दाल पहुंचाने की व्यवस्था की जाएं और प्रत्येक गरीब व्यक्ति को राशन देना सुनिश्चित किया जाए। बाहर से आने वाले लोग जिनके राशन कार्ड नहीं है उन तक भी राशन पहुंचाने की व्यवस्थाएं की जाएं। राशन वितरण व्यवस्था में सामाजिक दूरी की पालना की जानी आवश्यक है। उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी नरेगा योजना के अन्तर्गत गांव-गांव में कार्य स्वीकृत कर ज्यादा से ज्यादा लोगों को उनके निकटवृत्ति क्षेत्र में काम पर लगाया जाएं साथ ही उनके लिए छाया, पानी, मास्क, सेनेटराईजड एवं चिकित्सा आदि व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जाए। उन्होंने कहा कि गर्मी के मौसम को देखते हुए जिले में पेयजल की सुचारू व्यवस्था की जाए। विशेषकर रोहट क्षेत्र के गांवों में जहां पानी की किल्लत है वहां टैंकरों से पानी पहुंचाने की व्यवस्था की जाएं। प्रभारी मंत्री ने  कहा कि राज्य में टिड्डी दल ने दस्तक दे दी है और हवा के रूख के साथ पाली जिले में भी पहुंचने की संभावना है इसके बचाव के संबंध में सभी आवश्यक व्यवस्थाएं समय रहते पूरी कर ली जाए। साथ ही ग्रामीण क्षेत्र के मोजीज किसानों से वार्ता कर उन्हें टिड्डी से बचाव के संबंध में जानकारी देकर बचाव के लिए ज्यादा से ज्यादा संसाधनों का उपयोग किया जाए। प्रभारी मंत्री ने समर्थन मूल्य पर गेहूं सरसों व चने की खरीद के लिए किसानों को खरीद केन्द्र तक पहुंचने में किसी भी प्रकार की बाधा उत्पन्न न हो इसकी सुनिश्चिता की जाएं। उन्होंने कोविड-19 के  दौरान पाली जिले की व्यवस्थाओं की सराहना की।  
जिले के प्रभारी सचिव डा.ॅ प्रितम बी यशवंत ने कहा कि जिले में प्रवासियों की आवक संख्या को देखते हुए सैम्पल का दायरा बढ़ाकर संदिग्ध लोगों के सैम्पल लिए जाए साथ ही शहर व ग्राम कोर कमेटियों को मुस्तेद कर बाहर से आने वाले लोगों को होम क्वारेंटाईन में रखते हुए उन पर निगरानी रखी जाए एवं आईएलआई के मरीजों के सैम्पल लिए जाए तथा रेण्डमली सैम्पल लेकर जिला स्तरीय अधिकारी मौके पर जाकर व्यवस्थाओं का भी निरीक्षण करें। उन्होंने पाली में औद्योगिक इकाईयों के संचालन के संबध में जानकारी लेते हुए कहा कि जो उद्यमी अपने संस्थान में श्रमिकों को रखकर कार्य करना चाहते है उन्हें अनुमति दी जाए। कफ्र्युग्रस्त क्षेत्रों में लोगों की आवाजाही नहीं हो और लाॅक डाउन की पूर्ण पालना हो इसके लिए सावधानी रखना आवश्यक है। नगर परिषद क्षेत्र के बाहर औद्योगिक इकाईयों के संचालन की मंजूरी दी जा सकती है। उन्होंने जिले में चिकित्सा व्यवस्था की समीक्षा करते हुए अस्पतालों में आवश्यक प्रबंध एवं क्वारेंटाईन वार्ड में भी आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध करवाने के निर्देश दिए। उन्होंने प्रवासियों के खाने पीने की व्यवस्था की जांच एसडीएम व तहसीलदार को मौके पर भेजकर करवाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि मनरेगा के तहत प्रत्येक राजस्व गांव में एक कार्य स्वीकृत किया जाए ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों को रोजगार मिल सके।
जिला कलक्टर अंश दीप ने बताया कि पाली शहर के 52 वार्डों को कन्टेनमेंट जोन घोषित कर 80 प्रतिशत आबादी क्षेत्र में कफ्र्यु लगाया गया है। जिले में अब तक 1087 सैम्पल लेकर उनकी जांच करवाई गई है। कन्टेनमेंट क्षेत्र में प्रशासन द्वारा चिकित्सा, किराणा, दूध, सब्जी, फ्रूट आदि आवश्यक सेवाओं की उपलब्धता के लिए समुचित प्रबंध किए गए है। वर्तमान पाली में 59 पाॅजिटिव केस आए है जिनमें 54 केस पाली शहर के है। उन्होंने बताया कि नाड़ी मोहल्ला, पांच मौखा, शिव नगर, नाईयों का बास आदि क्षेत्र को रेड जोन घोषित किया गया है। उन्होंने कहा कि बाहर से आने वालें लोगों पर विशेष ध्यान रखकर उनकी जांच के बाद होम क्वारेंटाईन किया जा रहा है एवं उनके घर के बाहर हरे रंग का स्टीकर लगाया गया है। साथ ही होम क्वारेंटाईन किए गए लोगों के बंध एवं प्रतिभूति पत्र भी भरवाएं जा रहे है। पिछले 14 दिन में 27 हजार लोगों की बाहर से आने की सूचना है। उन्होंने बताया कि जिले में मनरेगा के तहत वर्तमान में 87 हजार 300 लोगों को नियोजित कर रोजगार दिया जा रहा है। श्रमिकांे की संख्या आगामी दिनों में एक लाख से अधिक होने की संभावना है। जिले में पेयजल की आपूर्ति की जा रही है। जंवाई बांध में 15 सितम्बर तक पानी सप्लाई करने की व्यवस्था हैं। इसके अलावा दुरूस्थ क्षेत्र में टैंकर परिवहन से पानी पहंुचाने की व्यवस्था की गई है। ट्डिडी की रोकथाम के लिए भी सभी आवश्यक व्यवस्थाएं कर ली गई है। पुलिस अधीक्षक राहुल कोटोकी ने बताया कि कफ्र्यु एवं लाॅक डाउन की गाईड लाईन के अनुसार पूर्ण पालना करवाई जा रही है।जिले में मास्क का उपयोग व सामाजिक दूरी की कड़ाई से पालना हो रही है साथ ही जिले की सीमाओं पर निरन्तर चैकसी बरती जा रही है। जिले के अधिकारियों ने टीम भावना से अच्छा कार्य किया है। गुजरात व महाराष्ट्र से बसों द्वारा बोर्डर पर भारी तादाद में लोग आ रहे है जो पाली जिले के बोर्डर में पैदल चलकर आ रहे है। उन्होंने कहा कि बाली ब्लाॅक में अभी तक कोई पाॅजिटिव केस सामने नहीं आया है।
वीसी में अतिरिक्त जिला कलक्टर वीरेन्द्रसिंह चौधरी, सीईओ प्रहलाद सहाय नागा, अधीक्षण अभियंता जलदाय दिनेश चन्द पुरोहित, डिस्काॅम घनश्यामसिंह, डीएसओ एसडी पुरोहित, सीएमएचओ डाॅ. आर.पी.मिर्धा सहित संबंधित अधिकारी मौजूद रहे।