ALL देश /विदेश राज्य अपराध खेल मनोरंजन/सिनेमा लाइफ स्टाइल धर्म हिन्दी साहित्य शिक्षा कारोबार
जोधपुर आ रहे हरियाणा पुलिस के जवानों ने ट्रेन के 3 कोच पर किया कजा, यात्रियों को सीट छोड़ भागना पड़ा
November 16, 2019 • Dr. Surendra Sharma

निजी संवाददाता

जोधपुर। फलोदी में नगरपालिका चुनाव करवाने के लिए जोधपुर आ रहे हरियाणा रिजर्व फोर्स के 200 जवानों ने दिल्ली सराय रोहिला- जोधपुर एक्सप्रेस ट्रेन के तीन कोच पर कब्जा कर लियाइन तीन कोच में जिन यात्रियों की सीट कंफर्म थी, उन्हें कोच छोड़कर भागना पड़ा। स्थिति यह थी कि जो बीच रास्ते के स्टेशनों से इन कोच में चढ़ने की कोशिश कर रहे थे, उन्हें भी धक्के देकर कोच में चढ़ने नहीं दिया गया। लाचार रेलवे सुरक्षा बल भी इन यात्रियों की मदद नहीं कर सका। कोच में व्यवस्था कर यात्रियों को सीट देनी पड़ी। हालांकि इस मामले में रेलवे सुरक्षा बल ने मुकदमा दर्ज कर एक जवान को पकड़ा है। दरअसल, ट्रेन संख्या 22482 दिल्ली सराय रोहिला से बुधवार रात 11-15 बजे रवाना होनी थी। इस ट्रेन के एस-9 से एस-11 कोच में हरियाणा पुलिस के जवान पहले से कब्जा कर बैठ गए थे। यात्री कालूराम एस-9 कोच में अपनी सीट संख्या 28 पर बैठने के लिए ट्रेन में चढ़ने लगा तो जवानों ने उसे धक्का देकर बाहर कर दिया। दूसरे यात्री आने लगे तो जवानों ने कोच के दरवाजे बंद कर दिए। ट्रेन रवाना होने लगी तो यात्री भागकर दूसरे कोच में चढ़े। इसी ट्रेन में गुड़गांव से मेड़तारोड के लिए आ रही तृप्ति शर्मा (20) की एस-10 में 64 नंबर सीट बुक थी। वह कोच में चढ़ने लगी तो जवानों ने अंदर ही नहीं आने दिया। आरपीएफ वाले पहुंचे उनसे भी धक्कामुक्की शुरू कर दी। ऐसी कई शिकायतें रेलवे में दर्ज हुई हैं। ट्रेन रात करीब पौने एक बजे रेवाड़ी से रवाना हो गई और यात्रियों की परेशानी बढ़ने लगी तो उन्होंने चेन खींचकर ट्रेन को रेवाड़ी व महेंद्रगढ़ के बीच करीब दो घंटे तक रोके रखा। बाद में टीटीई ने दूसरे कोच में यात्रियों को सीट देकर राहत पहुंचाई तब ट्रेन आगे बढ़ी। पूरे सफर के दौरान आरपीएफ इन जवानों के सामने बेबस रही। बीच रास्ते के स्टेशन बीकानेर मंडल के भी थे तो वहां से आरपीएफ ने कार्रवाई का प्रयास किया। बीकानेर आरपीएफ कंटोल रूम के मताबिक लगभग 200 जवान जोधपुर में नगरपालिका के चुनाव करवाने जा रहे थे, जो कोच एस 8, एस १ व एस 10 में प्रवेश कर गए। यात्रियों ने चेन पुलिंग की। एक जवान को रेवाड़ी में पकड़कर मुकदमा संख्या 2322/19 दर्ज किया गया। इस मामले में आरपीएफ के मुख्य सुरक्षा आयुक्त सर्वप्रिय मयंक के मुताबिक उन्हें मैसेज मिला था कि जवानों ने यात्रियों के साथ धक्कामुक्की की है। यात्रियों की सुरक्षा को लेकर इस तरह की बात को गंभीरता से लिया जा रहा है और वे मामले की विस्तार से जानकारी लेकर समुचित कार्रवाई करवाएंगे।