ALL देश /विदेश राज्य अपराध खेल मनोरंजन/सिनेमा लाइफ स्टाइल धर्म हिन्दी साहित्य शिक्षा कारोबार
जेकेके में शबद गायन और सतनाम वाहे गुरु नाटक से जेकेके में साकार हुई पंजाबी संस्कृति
January 13, 2020 • Dr. Surendra Sharma

 कार्यालय संवाददाता

जयपुर। जवाहर कला केंद्र में गुरुनानक देव की 550वीं जयंती के उपलक्ष्य में रविवार शाम को 'हर सिमरन' कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जेकेके द्वारा उत्तर क्षेत्र सांस्कृतिक केंद्र, पटियाला के सहयोग से आयोजित इस कार्यक्रम में विभिन्न प्रस्तुतियों के माध्यम से जयपुर के कलाप्रेमियों के समक्ष पंजाबी संस्कृति साकार होगी। इस अवसर पर जेकेके महानिदेशक श्रीमती किरण सोनी गुप्ता और अतिरिक्त महानिदेशक (तकनीकी), श्री फुरकान खान भी उपस्थित थे। प्रस्तुति के पश्चात् श्रीमती गुप्ता ने शबद गायन करने वाले कीर्तन जत्था कलाकारों को स्मृति चिह्न और पौधा भेंट कर सम्मानित किया। शबद कीर्तनः कार्यक्रम के आरम्भ में गुरुद्वारा मानसरोवर के कीर्तनी जत्थे ने गुरुवाणी में से शबद कीर्तन पेश किए। भाई गुरजीत सिंह और भाई रविन्द्र सिंह ने राग कल्याण और ताल तीन ताल में 'मेरे लालन की सोभा' और मिश्र राग एवं ताल कहरवा में 'कोई बोले राम राम कोई खुदाए' शबद कीर्तन सुना कर माहौल में आध्यात्मिकता के रंग भरे। इस प्रस्तुति में अरविन्द पाल सिंह ने तबले पर संगत दी। 'सतनाम वाहे गुरु नाटक का हुआ मंचनः शबद कीर्तन के बाद मनीष जोशी की संकल्पना एवं निर्देशन पर आधारित नाटक 'सतनाम वाहे गुरु का मंचन हुआ। हिन्दी उर्दू एवं पंजाबी भाषा को पिरोते हुए दास्तां गोई के रूप में प्रस्तुत इस नाटक के लेखक सकलेन शाहिदी है। नाटक में 5 दास्तांगो ने बेहद रोचक अंदाज में गुरुनानक के जन्म से लेकर अंतिम समय तक के किस्से सुना कर सभी श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया। भाई वीर सिंह की कहानियों पर आधारित इस नाटक में कलाकारों ने सिख धर्म में 13 नम्बर के महत्व, लंगर सेवा के उद्भव, काबा एवं हरिद्वार की कहानियों के वृत्तांत का मंचन कर सभी को मंत्रमग्ध कर दिया। नाटक में दास्तांगो के रूप में तजेन्द्र सिंह, अतुल लंगाया, विशाल मान, मधुर भाटिया एवं अनुप विश्नोई कलाकार शामिल थे। गायन पर प्रतीक निर्वाण एवं चैनीज गिल और ढोलक पर रोहित थे। संगीत एवं प्रकाश संयोजन चिराग कालरा का था। उल्लेखनीय है कि जेकेके की ओर से देश की गौरवशाली संस्कृति से अवगत कराने के उद्देश्य से ऐसे कार्यक्रम आयोजित किए जाते रहे हैं। इसी कड़ी में आमजन को पंजाबी संस्कृति से रू-ब-रू करने के लिए यह कार्यक्रम आयोजित किया गया।