ALL देश /विदेश राज्य अपराध खेल मनोरंजन/सिनेमा लाइफ स्टाइल धर्म हिन्दी साहित्य शिक्षा कारोबार
जीवन में निर्धारित प्रमुख लक्ष्यों का होना अत्यंत आवश्यक है ले. जनरल आलोक कलेर
February 5, 2020 • Dr. Surendra Sharma

जयपुर। कन्फेडेरेशन ऑफ इंडियन इंडस्ट्री (सीआईआई) के महत्वपूर्ण अंग यंग इंडियन्स (वाईआई) के जयपुर चैप्टर द्वारा होटल रेडिसन ब्लू, जयपुर में एनुअल सैशन का आयोजन किया गया। इस सैशन की थीम 'यूथ 2.0-द फ्यूचर लीडरशिप ऑफनेशन रखी गई थी।

युवाओं की बढ़ती महत्ता और यूथ 2.0 कॉन्सेप्ट के बारें में जानकारी देते हुये सीके बिरला ग्रुप के चैयरमैन सीके बिरला ने बताया कि, भविष्य का निर्माण युवाओं के द्वारा सत्त प्रयास किया जाता रहा है। हालांकि अब समय यथ 2.0 का आ चका है। इस कॉन्सेप्ट के अनुसार वर्तमान का युवा, पूर्व के युवाओं से पूर्णतया भिन्न है। वर्तमान का युवा अपेक्षाकृत अधिक आत्मविश्वासीखतरें उठाने वाला, अपने आसपास के हालात के अनुरूप तुरन्त निर्णय करने वाला है और इन सबसे अधिक महत्वपूर्ण यह है कि वह पूर्व प्रचलित धारणाओं की प्रासंगिकता पर सवाल करने में पीछे नहीं रहता है।

सीके बिरला ने अपने उद्बोधन में युवा और तकनीक के सहसंबंध पर भी प्रकाश डाला। उन्होंने बताया कि वर्तमान में युवा और तकनीक सबसे ज्यादा परिवर्तनकारी कारकों में से एक है। उनके अनुसार "तकनीक सोशल मीडिया और दूसरे विकसित साधनों ने यवाओं को अधिक समझदार बनाया है और वह यह जानता है कि किस प्रकार तकनीक का विकास के लिये श्रेष्ठ तरिके से उपयोग किया जा सकता है। यह हमारा कर्तव्य है कि हम अपने युवाओं के लिये भविष्य के अनुरूप तैयार करे और सुविधायें उपलब्ध कराये, एक अनुरूप वातावरण का निर्माण करे ताकि वे उज्जवल और विकसित भारत की परिकल्पना को यर्थाथ स्वरूप प्रदान कर सकें। युवाओं को लक्ष्य बनाने और उसे हासिल करने के लिये उत्साहित करते हुये भारतीय सेना के दक्षिण-पश्चिम कमांड के प्रमुख ले. जनरल आलोक कलेर, पीवीएसएम और वीएसएम ने कहा, "हम सभी के जीवन में एक प्रमुख निर्धारित लक्ष्य होना चाहिये, जिसे हासिल करने के लिये सहायक लक्ष्यों की आवश्यकता होगी। हमारा उद्देदश्य इस लक्ष्य और सहायक लक्ष्यों पर केन्द्रीत रहना है। इसके अलावा हमें क्षमता का सदुपयोग, प्रयासों का अनुकूलतम प्रयोग, आक्रामकता, अंचभित करने की क्षमता के साथ उच्च मनोबल हमें इन लक्ष्यों को हासिल करने में सहायक होगें।"

फैज की तैयारी की क्षमता और प्रशिक्षण पर सवाल पर ले. जनरल आलोक कलेर ने कहा, अगर आप शांति से रहना चाहते है तो आप में हिंसा की क्षमता भी होनी चाहिये। अगर आप मजबूत और सक्षम है और आप पूरी तैयारी व प्रशिक्षण प्राप्त है तभी आप शांतिपूर्वक रह सकते हैअन्यथा आपको मात्र हानिरहित माना जायेगा। अतः मूलमंत्र यही है कि आपमें किसी भी चुनौती का जवाब देने की मजबूत क्षमता होनी चाहिये।

सीआईआई राजस्थान के चैयरमैन और गीतास्टार होटल्स एंड रिसैट प्रा. लि. के मैनेजिंग डायरेक्टर आनन्द मिश्रा ने बताया कि हमारे नेत्त्वकर्ता के लिये आवश्यक है कि वह युवाओं को सही दिशा प्रअन करें ताकि वह अपनी ऊर्जा का सदुपयोग भारत के बेहतर भविष्य के लिये कर सकें।

यंग इंडियन्स जयपुर चैप्टर के चैयर और श्रेया पेट्रोकेम प्रा. लि. के डायरेक्टर नितेश साबु ने बताया कि भविष्य ब्लूप्रिंट के लिये देशवासियों के मूल्योंआशाओं और आकांक्षओं को पर्याप्त महत्व दिया जाना आवश्यक है। क्षमता शक्तियों के वाहक होने के कारण युवाओं स्वाभाविक रूप से हम सभी से बड़ी उम्मीदें है।

जगत के वर्तमान की रीजनल सीआईआई राजस्थान के डायरेक्टर व हैड नीतिन गुप्ता ने इस कार्यक्रम के उपयोगिता के बारे में जानकारी देते हुये बताया इसका उद्देदश्य नव उघमियों को एक ऐसा मंच प्रदान करना था जिससे वे व्यवसायिक जगत के वर्तमान को समझ सकें। वाईआई नॉर्दन रीजन की रीजनल चैयर स्मिता अग्रवाल ने कार्यक्रम के अंत में धन्यवाद ज्ञापित करते हुये बताया कि कार्यक्रम में लगभग 140 से अधिक स्टुडेन्ट्स, यंग एन्टाप्रेन्योर्स तथा वाईआई के मेम्बर्स ने हिस्सा लिया