ALL देश /विदेश राज्य अपराध खेल मनोरंजन/सिनेमा लाइफ स्टाइल धर्म हिन्दी साहित्य शिक्षा कारोबार
जवाहरात कारोबारी का ईमेल हैककर 7.79 लाख रुपए हड़पे, मुंबई से पकड़ा गया नाइजीरियाई ठग
December 31, 2019 • Dr. Surendra Sharma

जयपुर। शहर में एक जवाहरात कारोबारी का बिजनेस ईमेल हैक करने के बाद 7.79 लाख रूपए की ऑनलाइन ठगी की वारदात करने वाले एक नाइजीरियाई ठग को एसओजी पुलिस ने मुंबई से गिरफ्तार कर लिया। सोमवार को एसओजी एवं एटीएस के एडीजी अनिल पालीवाल ने एक प्रेस कॉफ्रेंस में बताया कि गिरफ्तार आरोपी नाइजीरिया निवासी ईरिक चुकवूडी ओकाफोर है, जो मुंबई और दिल्ली में मौजूद अपने विदेशी - देसी साथियों के साथ संगठित गैंग बनाकर ऑनलाइन ठगी की वारदातें करता है। ईलाज करवाने के बहाने किश्तों में बैंक खातों में जमा करवाई रकमः एडीजी पालीवाल के मुताबिक इस संबंध में जवाहरात एक्सपोर्ट एवं इम्पोर्ट व्यवसायी द्वारा 16 दिसंबर 2019 को साइबर क्राइम पुलिस स्टेशन में धारा 66 सी, 66 डी आईटी एक्ट, 419, 420 व 120 बी आईपीसी के तहत केस दर्ज करवाया गया था। इस रिपोर्ट में परिवादी ने बताया कि 15 साल पुरानी परिवादी से संबंधित इटली की व्यवसायिक फर्म के बिजनेस ईमेल को अज्ञात लोगों द्वारा हैक कर लिया गया। जिसमें परिवादी की फर्म के ईमेल पर ईमेल करके इलाज करवाने के बहाने किश्तों में लगभग 7 लाख 79 लाख रपए तीन विभिन्न भारतीय बैंक खातों में धोखाधड़ी कर जमा करवा लिए। विदेशी नागरिकों द्वारा कमीशन पर उपयोग लेते है भारतीय बैंक खातेः मुकदमा दर्ज होने के बाद एसओजी को जांच सौंपी गई। तब सीसीआईयू एवं एसओजी के एसपी अभिजीत सिंह के निर्देशन में पुलिस इंस्पेक्टर प्रमेंद्र सिंह, कांस्टेबल प्रवीण कुमार, कांस्टेबल बलराम यादव व चालक सूबेसिंह की स्पेशल टीम गठित की गई। अनुसंधान के दौरान संदिग्ध बैंक खातों, संदिग्ध मोबाइल नंबरों व अन्य दस्तावेजों की जांच की गई। जिसमें सामने आया कि एक संगठित गैंग ने यह वारदात की है। जिसमें भारतीय बैंक खातों को विदेशी नागरिकों द्वारा कमीशन पर उपयोग किया गया है। देश छोड़कर भागने की फिराक में था, एयरपोर्ट से पकड़ा गया ठग: एसओजी के अनुसंधान में यह भी जानकारी मिली कि 22 दिसंबर 2019 को इसी गैंग के एक सदस्य रितेश कुमार गुप्ता को फरीदाबाद से गिरफ्तार किया गया था, जो कि न्यायिक अभिरक्षा में है। तब सीसीआईयू टीम ने रितेश से पूछताछ कर अन्य आरोपियों को चिन्हित किया। इसके बाद पुलिस टीम ने दिल्ली में बदरपुर, जनकपुरी सहित अन्य जगहों पर दबिश दी। तब कुछ सुराग हाथ लगे। जिनका पीछा करते हुए पुलिस टीम मुंबई पहुंची। वहां नाइजीरिया निवासी ईरिक चुकवूडी ओकाफोर को अंतराष्ट्रीय हवाई अड्डे से गिरफ्तार कर लिया। फर्जी आईडी से जारी मोबाइल सिम व बैंक खातों का उपयोग करते है: पूछताछ में सामने आया कि आरोपी ईरिक भारत छोड़कर विदेश भागने की फिराक में था। आरोपी ईरिक ने साइबर ठगी की वारदात करना स्वीकार किया है। उससे अपराध में प्रयुक्त मोबाइल फोन, पासपोर्ट व अन्य दस्तावेज बरामद किए है। नाईजीरियाई ईरिक ने वारदात में अन्य विदेशी नागरिकों के भी शामिल होने की बात का खुलासा किया है। विदेशी नागरिकों के इस गिरोह द्वारा बिजनेस ईमेल्स को हैककर फर्जी भारतीय मोबाइल, सिम व बैंक खातों का इस्तेमाल कर व्यावसायिक फर्म के साथ धोखाधड़ी की जाती है। _निवासी ईरिक हवाई अड्डे से