ALL देश /विदेश राज्य अपराध खेल मनोरंजन/सिनेमा लाइफ स्टाइल धर्म हिन्दी साहित्य शिक्षा कारोबार
हिन्दू-मुस्लिम एकता का प्रतीक हजरत सैय्यद लौटनशाह बाबा का सालाना उर्स 12 मार्च को
March 8, 2020 • Dr. Surendra Sharma


फुलेरा :- कस्बे के श्रीरामनगर स्थित रेल्वे अजमेरी गेट निकट स्थित हजरत लौटनशाह बाबा की मजारे शरीफ पर प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी गुरूवार 12 मार्च को भव्य सालाना उर्स मुबारक मेले का आयोजन हजरत सैय्यद लौटनशाह बाबा इन्तेजािमयां उर्स कमेटी के तत्वाधान में आयोजित किया जायेगा। कमेटी के सदर अब्दुल लतीफ कुरेशी ने बताया कि गुरूवार 12 मार्च को सैय्यद लौटनशाह बाबा की मजारे शरीफ पर प्रात: 7 बजे कुरानख्वानी होगी। तत्पश्चात प्रात: 10 से दोपहर 2 बजे तक व सांय 5 बजे से सांय 7 बजे तक कमेटी के तत्वाधान में लंगर-प्रसादी आयोजन किया जाएगा। वहीं दोपहर 2 बजे चादर शरीफ मदरसा नूरे अहमदीया बाजार से रवाना होकर कस्बे के मुख्य मार्गों से होते हुए सांय 4 बजे मदरसा तिलामुल इस्लाम, ढाणी कारीगरान से होते हुए मजारे अकदम पर पहुंचेगी। रात्रि 9 बजे नमाज इशा से महफिले कव्वाली-ए-समां व रसूमात कुल शरीफ के बाद समापन होगा। गौरतलब है कि हजरत सैय्यद लौटनशाह बाबा के दरबार में हिन्दू-मुस्लिम समाज के लोग सहभागिता के साथ मिलकर कार्य करते है। जाे कि अपने-आप में एक मिसाल है। सैय्यद लौटनशाह बाबा की पूजा-अर्चना हिन्दू व मुस्लिम दोनों ही समुदाय के लोग करते हैं।