ALL देश /विदेश राज्य अपराध खेल मनोरंजन/सिनेमा लाइफ स्टाइल धर्म हिन्दी साहित्य शिक्षा कारोबार
हार्ट फेल्योर  शख्स की कृत्रिम हृदय से बचाई जान
August 26, 2020 • Dr. Surendra Sharma

हार्ट फेल्योर  शख्स की कृत्रिम हृदय से बचाई जान

 

जयपुर । हार्ट फेल्योर के आखिरी चरण में पहुंच चुके जयपुर के 58 वर्षीय मरीज को मैक्स हॉस्पिटल, साकेत में नई जिंदगी मिल गई। पोस्ट कार्डियोटोमी शॉक की शिकायत के कारण यहां लाया गया था। 

 

मरीज केसी अग्रवाल में मैकेनिकल हार्ट पंप यानी लेफ्ट—वेंट्रिकुलर असिस्ट डिवाइस (एलवीएडी) का सफलतापूर्वक प्रत्यारोपण किया गया। उन्हें इससे पहले दिल का गंभीर दौरा पड़ चुका था और जयपुर के ही एक अस्पताल में कोरोनरी आर्टरी बायपास ग्राफ्टिंग (सीएबीजी) कराई गई थी। दुर्भाग्यवश पोस्ट कार्डियोटोमी शॉक की जानलेवा स्थिति में पहुंच जाने के बाद ही उन्हें मैकेनिकल सर्कुलेटरी सपोर्ट पर मैक्स हॉस्पिटल, साकेत लाया गया था। 

 

मैक्स सुपर स्पेशियल्टी हॉस्पिटल, साकेत के मुख्य कंसल्टेंट, कार्डियक सर्जन और हार्ट ट्रांसप्लांट एंड वेंट्रिकुलर असिस्ट डिवाइस के निदेशक डॉ. केवल कृष्ण ने बताया, 'मरीज को गंभीर स्थिति में भर्ती कराया गया था और अधिक से अधिक वेंटिलेटर सपोर्ट मिलने के बाद भी उनका आॅक्सीजन लेवल खतरनाक स्थिति में बहुत कम हो चुका था। लिहाजा उन्हें तत्काल वेनो—आर्टेरियल एक्सट्राकॉर्पोरियल मेंब्रेन आॅक्सीजेनेशन सपोर्ट (वी—ए ईसीएमओ) पर रखा गया। लगातार निगरानी में रखने के बाद उनका ईको शरीर की आवश्यकता के अनुरूप हो पाया। लेकिन उनकी हिमोडायनामिक्स की गंभीर स्थिति को देखते हुए ईसीएमओ का पूर्ण संचार बहाल करने के लिए सात दिन बाद ईको को हटाकर देखने की प्रक्रिया अपनाई गई। कई बार यह प्रयास विफल हो जाने के बाद डॉक्टरों की टीम ने ईसीएमओ जारी रखने का फैसला किया।' हालांकि ईसीएमओ फेफड़े या हृदयगति रुक जाने की गंभीर स्थिति में ही दी जाती है। 

 

उन्होंने बताया, 'चूंकि मरीज गंभीर कार्डियोजेनिक शॉक के कारण हार्ट फेल्योर के अंतिम चरण में पहुंच चुका था इसलिए उन्हें दिल का प्रत्यारोपण करने की सख्त जरूरत थी। लेकिन दिल का दान करने वाला कोई नहीं मिल रहा था इसलिए लक्ष्य—केंद्रित उपचार के तौर पर एक लेफ्ट वेंट्रिकुलर असिस्ट डिवाइस प्रत्यारोपित करने का फैसला किया गया। बिना किसी गड़बड़ी के यह प्रक्रिया पूरी हो गई जबकि वी—ए ईसीएमओ सपोर्ट को हटा लिया गया और एलवीएडी प्रत्यारोपित कर दिया गया। इस जटिल प्रक्रिया के लिए आॅपरेशन के बाद भी मरीज को आईसीयू और अस्पताल में रखे जाने की अवधि उम्मीद के अनुरूप रही और इसके बाद उन्हें सामान्य स्थिति में अस्पताल से छुट्टी दे दी गई।'

 

डॉक्टर कृष्ण ने बताया कि दिल की बीमारी के ज्यादातर मामले शुरुआती चरण में पकड़ में नहीं आते हैं जिस कारण हृदय की गतिविधि बिगड़ती चली जाती है और अंत में यही हार्ट फेल्योर का कारण बनता है। कई मरीजों को बार—बार दिल का दौरा पड़ता है और डायलेटेड कार्डियोमायोपैथी के ऐसे मरीजों को एडवांस्ड हार्ट फेल्योर का खतरा अधिक रहता है। ऐसे मामलों में दिल का प्रत्यारोपण करने का ही विकल्प बचता है जबकि डोनर नहीं मिल पाने के कारण ऐसे 70 फीसदी मरीजों की मौत हो जाती है। ऐसे हालात में एलवीएडी उन मरीजों के लिए वरदान साबित हुआ है और इससे कई लोगों की जान बच पाई है।