दी राज लक्ष्मी महिला बैंक सीईओ मोहम्मद इकबाल खान का संदेश
April 20, 2020 • Dr. Surendra Sharma

 

दी राज लक्ष्मी महिला बैंक सीईओ मोहम्मद इकबाल खान का संदेश

जब पूरी दुनिया कोरोना वायरस से जंग लड़ रही है और पूरी दुनिया का तकरीबन  70% हिस्सा इस महामारी की चपेट में आ चुका है हजारों लोग इससे रोज मर रहे हैं उसी समय में हमारा भारत देश भी इस महामारी की चपेट में है और हजारों की तादात में लोग आ चुके हैं और कई सैकड़ों दुनिया से रुखसत हो चुके हैं

मगर कुछ सियासी लोग इस महामारी में भी अपनी रोटियां सेकने से बाज नहीं आ रहे हैं एक तरफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कह रहे हैं कि इस महामारी से एकजुट होकर ही जीता जा सकता है।

इस समय हर इंसान परेशानी के दौर से गुजर रहा है कुछ मतलब परस्त लोग देश को तोड़ने पर तुले हैं ऐसे में पूरे देश की जनता को चाहिए कि जो लोग देश को हिंदू मुस्लिम में बांटना चाहते हैं उनके खिलाफ आवाज उठाएं और सदियों से जो भारत की गंगा जमुनी तहजीब चली आ रही है उसे बरकरार रखें क्योंकि देश को बनाना बहुत मुश्किल है मगर तोड़ना बहुत आसान जो भी गुनहगार हो उसे सजा मिले चाहे किसी भी संप्रदाय समुदाय वर्ग धर्म जाति का हो उसे बक्शा नहीं जाना चाहिए । 

मगर कुछ लोग देश में ऐसी संप्रदायिकता फैला रहे हैं जिससे देश की भोली-भाली जनता और उन में नफरत के बीज बो रहे हैं इससे देश को नुकसान ही होगा सांप्रदायिकता फैला कर अपना फायदा उठा रहे हैं इस आपदा के समय में मिलजुल कर एकजुट होकर रहना होगा किसी के साथ भेदभाव नहीं करना है खासतौर पर गरीब मजदूर बेसहारा लोगों को सहारा देना है क्योंकि इस समय पूरी दुनिया की जबरदस्त आर्थिक स्थिति खराब हो चुकी है और पूरा विश्व इससे जूझ रहा है देश की जनता भी इसी संकट से जूझ रही है इसलिए इस समय जो लोग सरमायादार हैं उन्हें आगे आकर अपने पड़ोसियों अपने काम करने वाले मजदूरों का पूरा ख्याल रखना होगा और उन्हें हौसला देना होगा जिससे यह संकट की घड़ी निकल जाए फिर एक बार जिंदगी अपनी पटरी पर दौड़ेगी क्योंकि इस समय देखा जाए तो ईश्वर पूरी दुनिया के लोगों से नाराज हैं इसलिए दुनिया का बड़ा हिस्सा महामारी की चपेट में आ गया है 
ईश्वर ने अपने सारे घरों के दरवाजे बंद कर दिए मंदिरों मस्जिदों गिरजाओ गुरुद्वारों अपने सारे घरों में इंसानों को आने के लिए मना कर दिया है यदि अब भी इंसान नहीं समझेगा तो फिर कौन सा दिन आएगा समझने का ईश्वर कहता है तुम जमीन वालों पर रहम करो मैं तुम पर रहम करूंगा मगर इंसान इंसान को मारने और उसका हक छीनने में लगा है इसलिए अब हमें समझना होगा कि ईश्वर हमसे आपसी भाईचारा प्रेम चाहता है यदि अब भी नहीं ईश्वर की मानें तो दुनिया को खत्म होते हुए देर नहीं लगेेेगी।