ALL देश /विदेश राज्य अपराध खेल मनोरंजन/सिनेमा लाइफ स्टाइल धर्म हिन्दी साहित्य शिक्षा कारोबार
बिजली बिल पर फ्यूल सरचार्ज बढ़ाकर आमजन  पर  दोहरी मार- डाॅ. सतीश पूनियां
August 28, 2020 • Dr. Surendra Sharma

 बिजली बिल पर फ्यूल सरचार्ज बढ़ाकर आमजन  पर  दोहरी मार- डाॅ. सतीश पूनियां

 चिकित्सकों की भर्ती रद्द करने का कारण स्पष्ट करें मुख्य मंत्री 

 

जयपुर, 28 अगस्त। भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डाॅ. सतीश पूनियां ने कोरोना कु-प्रबंधन, फ्यूल सरचार्ज के नाम पर प्रदेश के करोड़ों बिजली उपभोक्ताओं पर अतिरिक्त भार, दो हजार चिकित्सकों की भर्ती रद्द करने सहित विभिन्न मुद्दों को लेकर राज्य सरकार पर निशाना साधा है।

डाॅ. पूनियां ने कहा कि प्रदेश के 1 करोड़ 40 लाख से अधिक बिजली उपभोक्ताओं को कांग्रेस सरकार ने बड़ा झटका दिया है। अब बिजली कम्पनियाँ बिल में 30 पैसे प्रति यूनिट के हिसाब से फ्यूल चार्ज वसूलेंगी, जिससे प्रदेश के आमजन और किसानों पर दोहरी मार पड़ेगी। उन्होंने कहा कि बिजली दरों में बढ़ोतरी के खिलाफ सहित विभिन्न मुद्दों को लेकर प्रदेशभर में भाजपा राज्य सरकार की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ सोशल मीडिया एवं अन्य माध्यमों से मोर्चा खोलेगी।  

डाॅ. पूनियां ने कांग्रेस सरकार द्वारा दो हजार चिकित्सकों की भर्ती को रद्द करने का विरोध करते हुए कहा कि प्रदेश में लाखों पदों पर भर्तियाँ लम्बित हैं, जिन्हें पूरा करना सरकार की प्राथमिकता है, लेकिन इस बीच भर्तियाँ पूरी करना तो दूर, चिकित्सक भर्ती परीक्षा लेने के बाद उसे रद्द करना राज्य सरकार के सिस्टम पर सवालिया निशान खड़ा करता है, इससे युवाओं के सपनों पर भी कुठाराघात किया है। उन्होंने कहा कि चिकित्सा मंत्री चिकित्सकों की भर्ती को रद्द करने का यह तर्क दे रहे हैं कि खामियों के चलते परीक्षा को रद्द किया गया, इस बारे में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत एवं चिकित्सा मंत्री स्पष्ट करें कि इस परीक्षा में क्या खामियाँ थीं, जिसके कारण रद्द किया गया है।  

डाॅ. पूनियां ने प्रदेश में कोरोना कु-प्रबंधन को लेकर कहा कि 74 हजार से अधिक मामले एवं 900 से अधिक मौतें हो चुकी हैं, सीएमओ के अन्दर भी कोरोना के कई मामले सामने आ चुके हैं, लेकिन राज्य सरकार और मुख्यमंत्री गहलोत का कोरोना प्रबंधन एवं चिकित्सा व्यवस्थाओं को ठीक करने पर कोई ध्यान नहीं है। उन्होंने कहा कि नीट-जेईई मेन परीक्षा को लेकर मुख्यमंत्री गहलोत केन्द्र सरकार पर सवाल खड़े करते हैं, लेकिन खुद दोहरा रवैया अपनाते हैं। इन्हीं की सरकार का प्रारम्भिक शिक्षा विभाग 31 अगस्त को प्री डी.एल.एड. परीक्षा आयोजित करवाने जा रहा है। यह कैसा दोगला चरित्र है आपका।