ALL देश /विदेश राज्य अपराध खेल मनोरंजन/सिनेमा लाइफ स्टाइल धर्म हिन्दी साहित्य शिक्षा कारोबार
भावुक हुए तेरापंथी स्कूल के पूर्व प्रधानाध्यापक चौरड़िया
February 23, 2020 • Dr. Surendra Sharma


आज श्री पारस मल चोरड़िया पूर्व प्रधानाध्यापक तेरापंथी मिडिल स्कूल, मोती सिंह भोमियों का रास्ता जौहरी बाजार जयपुर का 88 वां जन्मदिवस स्कूल के करीब 50-55 साल पुराने छात्रों ने मनाया और अपने गुरु का सम्मान किया

आश्चर्य की बात ये है कि उनको इस बात की जानकारी नहीं दी गईं हैं उनकी सुपुत्री डाक्टर अंजलि कटारिया व उनके सुपुत्र विश्व प्रसिद्ध डाक्टर अशोक चोरड़िया को विश्वास में लेकर किया गया और उनसे हमने निवेदन किया था कि चोरड़िया साहब को इस कार्यक्रम की जानकारी नहीं दी जाय और उन्होंने भी वादा किया था कि वे उनको नहीं बताएंगे और आज जब  उनको लेकर स्कूल में  पहुंचे तो वह आश्चर्यचकित रह गए और भावविभोर होगए वह नजारा देखने लायक था, करीब 50 पूर्व स्कूल छोड़ चुके छात्रों ने स्कूल को गुब्बारों से सजाया स्कूल के 400 बच्चे भी गुरु का इस प्रकार का सम्मान देखकर चकित रह गए औरअपने आपको गोरान्वित महसूस किया चोरड़िया साहब उस समय भावुक हो गए जब सभी पूर्व छात्रों ने उनके चरण छूकर आशीर्वाद लिया और माल्यार्पण कर उनका स्वागत किया

कार्यक्रम का संचालन करते हुए पूनमचंद भंडारी एडवोकेट ने स्कूल की परम्पराओं के बारे में बताया और चोरड़िया साहब के सख्त अनुशासन के बारे में बताया और किस तरह से अध्यापक कड़े अनुशासन में रखते थे जिसका नतीजा नजर आरहा है जब यहां पर जाने माने अन्तर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त जौहरी, बड़े व्यापारी उद्योगपति, इंजीनियर, डाक्टर, वकील, प्रशासनिक अधिकारी वगैरह मौजूद रहे उद्योगपति व जौहरी राजेन्द्र बरडिया ने साफा पहनाकर अपने गुरु का स्वागत किया और बताया कि स्कूल के कड़े अनुशासन के कारण इस मुकाम पर पहुंचे हैं सभी छात्रों ने अपने अनुभव बताए अन्तर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त डाक्टर अशोक चोरड़िया ने बताया कि पिताजी के सख्त अनुशासन के कारण ही यह मुकाम हासिल किया है और उनके पिताजी का भव्य स्वागत देखकर भावुक हो गए और आगे नहीं बोल पाए एक पूर्व छात्र कन्हैया लाल अग्रवाल आगरा पेठा वाले का सम्मान किया जो पिछले 20 सालों से स्कूल में हर 15 अगस्त को सभी बच्चों के लिए देशी घी के लड्डू बनवाकर वितरित करवाते हैं अंत में श्री चोरड़िया साहब ने उद्बोधन देते हुए बताया कि वे ऊपर से सख्त इसलिए थे  कि उनके छात्र कुछ बनकर दिखाएं और अपना भव्य स्वागत देखकर बोले कि आज उन्हें महसूस हो रहा है कि उन्होंने कितनी कमाई की है और अध्यापक होना कितने गर्व की बात है और फिर भावुक होगए  अंत में संस्था के अध्यक्ष नरेश मेहता ने धन्यवाद ज्ञापित किया कार्यक्रम का आयोजन तेरापंथी स्कूल मित्र मंडल ने किया।