ALL देश /विदेश राज्य अपराध खेल मनोरंजन/सिनेमा लाइफ स्टाइल धर्म हिन्दी साहित्य शिक्षा कारोबार
बेटियां धरती की अनमोल निधि- सोनी बेटी बचाओं-बेटी पढ़ाओं विषय पर जागरूकता  कार्यशाला सम्पन्न
January 16, 2020 • Dr. Surendra Sharma
 
 गेबाराम चौहान, जालोर। जिस घर में बेटियां मुस्कुराती है वहां ईश्वर का निवास होता है। बेटियां धरती की अनमोल निधि है। हमे बेटियों को पढाना तथा आगे बढाना होगा। यह बात जिला कलेक्टर महेन्द्र सोनी ने बुधवार को जिला प्रशासन एवं महिला अधिकारिता विभाग द्वारा‘‘बेटी बचाओं बेटी पढ़ाओं‘‘ विषय पर आयोजित जिला स्तरीय जागरूकता एवं आमुखीकरण कार्यशाला मे उपस्थित जन समुदाय को सम्बोधित करते हुए कही।
             उन्होंने कहा कि आज हर क्षेत्र मे बेटियां बेटों से आगे हैं। बेटियां देश ही नही विदेश में भी माता-पिता का नाम रोशन कर रही है। उन्होंने कहा कि अब समय आ गया है जब हमे बेटी के जन्म पर भी घर मे त्यौहार जैसी खुशियां मनानी चाहिए और उसे समय समय पर उचित प्रौत्साहन और दिशा देते हुए आगे बढने का पूरा मौका देना चाहिए। हमे मिलजुल कर बेटियों के प्रति समाज के साथ ही स्वयं के दृष्टिकोण मे बदलाव लाना होगा तथा बेटियों को उनका उचित स्थान दिलाना होगा। उन्होंने कहा कि बेटियों को भी चाहिए की वे भी किसी पर आश्रित नही रहते हुए आत्मविश्वास के साथ आगे बढ़ने के लिये प्रयास करे। बेटियां भी स्वयं पूर्ण मनोयोग के साथ प्रयास कर अपना मुकाम हासिल करे।  
जिला कलक्टर सोनी ने कहा कि ईश्वर ने बेटियों को अनूठी शक्ति दी है वह शादी के पहले व बाद हर  सुख-दुख मे माता पिता के साथ खडी रहती है। उन्होने कहा आज के समय में महिलाओं की स्थिति मे काफी बदलाव आया है परन्तु भारतीय समाज मे अभी भी बहुत कुछ किया जाना शेष है।  अभी भी हमारे समाज मे महिलाए संकोच के कारण प्रतिभा होते हुए भी आगे नहीं बढ़ पाती है। उन्हे अपनी स्वयं की सोच मे भी बदलाव लाना होगा तथा संकोच को त्याग कर आगे बढ़ने के प्रयास करने होंगे।
कार्यशाला मे जिला कलेक्टर सोनी ने बालिका जन्म को भी उत्साह के साथ समारोहपूर्वक मनाने के लिये प्रेरित करने के उद्देश्य से नन्ही बालिकाओं द्वारा केट कटवाया तथा आहवान किया कि हमे घर मे बेटियों के जन्म को भी इसी प्रकार खुशी के साथ मनाना चाहिए। 
              जिला कलेक्टर सोनी ने कार्यशाला स्थल पर महिला अधिकारिता विभाग द्वारा आयोजित प्रदर्शनी का अवलोकन भी किया तथा प्रदर्शनी मे बालिकाओं द्वारा बनाई गई अनेक सजावटी एवं उपयोगी सामग्री की प्रशंसा  की। इस प्रदर्शनी मे नन्ही बालिकाओं द्वारा कई प्रकार की उपयोगी एवं सजावटी सामग्री स्वयं अपने हाथों से बनाई गई थी जिसका कलेक्टर महेन्द्र सोनी मे अवलोकन करने के साथ ही नन्ही बालिकाओं के साथ वार्तालाप कर उन्हे प्रौत्साहित भी किया।
              प्रदर्शनी स्थल के सेल्फी पोईन्ट पर जिला कलक्टर महेन्द्र सोनी ने भी बेटियों के नाम  ‘‘बेटी बचाओं- बेटी पढाओं संदेश’’ देने के लिये सेल्फी ली तथा उपस्थित बालिकाओं को अपना आशीर्वाद भी दिया।
       कार्यशाला मे भू्रण हत्या एवं लिंगानुपात की विपरित परिस्थितियों मे दुल्हन की कमी को दर्शाते हुए लघु दृश्यात्मक नाटक का मंचन किया गया । कार्यक्रम का संचालन श्रीमती शैलजा माथुर ने किया ।
              कार्यशाला मे महिला अधिकारिता विभाग के सहायक निदेशक अशोक विश्नोई ने ‘‘बेटी बचाओ-बेटी बढाओ’’ विषय पर अपने विचार व्यक्त किये। कार्यशाला मे बाल अधिकारिता विभाग के सहायक निदेशक राजेन्द्र पुरोहित,  समग्र शिक्षा अभियान के सहायक निदेशक यज्ञदत्त, एनआरएचएम के डीपीएम चरण सिंह सहित अन्य अधिकारी, बालिकाएं, महिलाएं एवं गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।