ALL देश /विदेश राज्य अपराध खेल मनोरंजन/सिनेमा लाइफ स्टाइल धर्म हिन्दी साहित्य शिक्षा कारोबार
बयानः कंगना ने कहा... वकील इंदिरा जयसिंह को 4 दिन जेल में दुष्कर्मियों के साथ रखें, निर्भया की मां बोली... खुशी है कोई तो साथ आया
January 24, 2020 • Dr. Surendra Sharma

मुंबई। बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनोट ने सुप्रीम कोर्ट की वरिष्ठ वकील इंदिरा जयसिंह पर निशाना साधा है। इंदिरा ने कुछ दिन पहले ही निर्भया की मां से अपील की थी कि वे निर्भया से दुष्कर्म के दोषियों की सजा माफ कर दें। इस पर कंगना ने कहा, 'उस लेडी (इंदिरा जयसिंह) को उन लड़कों के साथ चार __दिन जेल में रखो। उसको रखना चाहिए, उसे जरूरत है।' इस बयान के बाद निर्भया की मां आशा देवी ने भी कहा है- खुशी है कोई तो मेरे साथ खड़ा हुआ। कंगना बुधवार को अपनी फिल्म 'पंगा' की स्क्रीनिंग के लिए मुंबई में थींयहां उनसे निर्भया फैसले पर सवाल किया गया था।

निर्भया की मां ने कंगना के बयान का स्वागत करते हुए कहा, 'मैं उनके बयान से सहमत हूं। मैं कंगना का धन्यवाद करती हूं। मैं किसी की तरह महान नहीं बनना चाहती। मैं एक मां हूं और सात साल पहले मेरी बेटी की जान गई है। मैं इंसाफ चाहती हूं।

कंगना ने कहा... महिला तमंचे ऐसी कोख से ही दरिंदे निकलते हैं कंगना ने आगे कहा, 'कैसी औरतें होती हैं जिन्हें ऐसे लोगों पर दया आती है। ऐसी ही औरतों की कोख से निकलते हैं वहशी दरिंदे। ये भी किसी की कोख से निकले हैं। उन्हीं की कोख ऐसी होती है जिन्हें प्यार आता है इन पर, सहानुभूति होती है ऐसे वहशियों और खूनियों से।

कंगना की मांग चौराहे पर दो फांसी जो रेप कर पा रहा है, इस तरह की हरकतें कर पा रहा है तो वो माइनर नहीं है। ऐसे लोगों को चौराहे पर मारना चाहिए, उनको वहां फांसी पर लटकाना चाहिए, ताकि लोगों को पता चले कि क्या होता है रेप करना और उसकी सजा क्या होती है। इतने सालों से वो मां और बाप उस दर्द को सह रहे हैं। क्या उनकी हालत हो रही है। हाई कोर्ट से सुप्रीम कोर्ट कहां-कहां जाएंगे ये लोग। मतलब कैसा समाज है ये। ऐसे लोगो को क्यों चुपचाप मार देना चाहिए? ऐसे मारने का क्या मतलब की आप समाज मे क्या उदाहरण दे सके। उन लोगो को चौराहे पर मारना चाहिए सब के सामने।