ALL देश /विदेश राज्य अपराध खेल मनोरंजन/सिनेमा लाइफ स्टाइल धर्म हिन्दी साहित्य शिक्षा कारोबार
अवैध सम्बन्धों में चढ़ी फिर एक ओर निर्दोष की बलि
August 26, 2020 • Dr. Surendra Sharma

 अवैध सम्बन्ध की खातिर पति का कत्ल कर दिया एक्सीडेंट का रूप,  प्रेमी व दो दोस्तों को किया गिरफ्तार

जयपुर 25 अगस्त। ग्रामीण जिले की थाना कोटपूतली पुलिस ने बड़ी सफलता हासिल कर 21-22 अगस्त की रात क्षेत्र के राजनोता रोड़ दादुका मोड पर मिली लाश की गुत्थी सुलझाते हुए हत्यारोपी मृतक की पत्नी के प्रेमी व उसके दो दोस्तों को घटना में प्रयुक्त पिकअप सहित गिरफ्तार कर लिया।                                   गिरफ्तार आरोपित खेम सिंह उर्फ नरेन्द्र उर्फ मामन सिंह पुत्र कैलाश सिंह (24) थाना प्रागपुरा, प्रहलाद पुत्र मोती राम बावरिया (21) थाना विराट नगर जिला जयपुर एवं कमलेश पुत्र राम सहाय बावरिया (19) थाना तुंगा जिला जयपुर शहर के रहने वाले है। घटना से करीब 15 दिन पहले भी आरोपितों ने हत्या का प्रयास किया गया था, जिसमे सफल नही हो सके थे।

*एक्सीडेंट का देना चाहा रूप, पर बच न सके*

     आईजी जयपुर रेंज एस. सेंगाथिर एवं एसपी शंकर दत्त शर्मा ने बताया कि थाना कोटपूतली क्षेत्र में 21-22 अगस्त की रात राजनोता रोड़ दादुका मोड पर पुलिस को एक लाश मिली जिसके पास एक स्कूटी पड़ी थी। पृथम दृष्टया मामला एक्सीडेंट का लग रहा था। एफएसएल व पोस्टमार्टम की रिपोर्ट के आधार पर हत्या की अंदेशा होने पर हत्या का मामला मान जांच शुरू की गई। एएसपी कोटपूतली सीओ दिनेश कुमार यादव के नेतृत्व में थानाधिकारी रविन्द्र कुमार व थाना कोटपूतली से एक विशेष टीम गठित की गई।

      मृतक की पहचान गोरधनपुरा निवासी लाला राम मीणा के रूप में कर ब्लाइण्ड मर्डर को वर्क ऑउट करने सीसीटीवी फुटेज खंगाले गये। विशेष साइबर तकनीकी का प्रयोग कर लाला राम की कॉल डिटेल में संदिग्ध नम्बरों की सीडीआर का विश्लेषण कर संदिग्धों की तलाश की तो वे फरार मिले। गठित टीम ने कई स्थानों पर दबिश देकर आखिरकार तीनों आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया।

*अवैध सम्बन्धों में चढ़ी फिर एक ओर निर्दोष की बलि*

     मुल्जिम खेम सिंह राजपूत ओर मृतक लाला राम की पत्नी के बीच प्रेम सम्बन्ध थे। इसका पता चलने पर लाला राम ने पत्नी को इन सम्बन्धों को खत्म करने की चेतावनी दी। खेम सिंह को ये मंजूर नही था तो उसने राह के रोड़े को रास्ते से हटाने के अपने साथी प्रहलाद बावरिया व कमलेश बावरिया की सहायता ली। लाला राम को फोन कर कोटपूतली बुलाया। बर्थडे होने की कह कमरे पर ले जाकर शराब पिलाई। नशा हो जाने पर बानसूर रोड़ पर दयालपुरा गांव के पास सुनसान जगह पर ले जाकर लाला राम के सिर पर पत्थर से वार कर हत्या कर दी। शव पिकअप में रख राजनोता रोड़ दादुका मोड पर लाये ओर रोड़ पर शव रख एक्सीडेंट का रूप देने सिर पर पिकअप चढ़ा दी और पास में उसकी स्कूटी पटक दी।