ALL देश /विदेश राज्य अपराध खेल मनोरंजन/सिनेमा लाइफ स्टाइल धर्म हिन्दी साहित्य शिक्षा कारोबार
अटूट धन संपदा से भगवान को प्राप्त नहीं किया जा सकताः श्रीनिवास नानी बाई रो मायरो कथा प्रारंभ
January 10, 2020 • Dr. Surendra Sharma

जयपुर। जागेश्वर महादेव मंदिर कल्याण जी का रास्ता ब्रह्मभट्ट बगीची में गुरुवार को कोलकाता के श्री निवास शर्मा ने तीन दिवसीय नानी बाई रो मायरो कथा आयोजन कि शुरुआत भगवान कृष्ण के दरबार में आरती पूजा और भजनों के साथ की। कथा वाचक कोलकाता के श्रीनिवासजी ने बताया कि भगवान को प्राप्त करने के लिए भक्ति ही सरलतम मार्ग है। अटूट धन संपदा से भगवान को प्राप्त नहीं किया जा सकता। उन्होंने बताया कि भक्त नरसी ने मोह- माया त्यागकर भक्ति का मार्ग अपनायाइसके कारण ही आज उनका नाम संसार में अमर है। कथा वाचक ने बताया कि नरसी भगत की आत्मा जब जागी तो उन्होंने 56 करोड़ की माया साधु-संतों, सत्संगियों, दीन दुखियों में लुटाकर भगवान को प्राप्त करने के लिए भक्ति की मार्ग अपनाया। उन्होंने कहा भगवान और भक्त के बीच सबसे बड़ी बाधा मोह माया है। व्यक्ति इस मोह माया के जाल में फंसकर भक्ति के मार्ग पर नहीं चल सकता है। भक्त नरसी व भगवान कृष्ण का मिलन भगवान शंकर ने कराया था। इस अवसर पर नरसी, कृष्णावतार एवं भगवान शंकर आदि की मनोहरी झांकियां सजाई गई। शुक्रवार को नानी बाई रो मायरो कथा के दसरे दिन भक्तिमय संगीतमय नृत्य नाटिका का आयोजन होगा।