ALL देश /विदेश राज्य अपराध खेल मनोरंजन/सिनेमा लाइफ स्टाइल धर्म हिन्दी साहित्य शिक्षा कारोबार
अल्पसंख्यक मयादगार सेवाओं से ग्राम्य विकास का सुनहरा स्वरुप दिखाएं : अल्पसंख्यक मामलात मंत्री
December 24, 2019 • Dr. Surendra Sharma

कार्यालय संवाददाता

जयपुर। अल्पसंख्यक मामलात मंत्री शाले मोहम्मद ने कहा है कि ग्रामीणों के सर्वांगीण उत्थान एवं ग्रामीण विकास की मूलभूत आवश्यकताओं की पूर्ति तथा सुविधाओं के विस्तार के लिए प्रदेश सरकार भरसक प्रयासों के माध्यम से ग्राम्य विकास का सुनहरा स्वरूप कायम करने में जुटी हुई है। प्रदेश के हर वर्ग और हर क्षेत्र का उत्थान राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता में है और इस दिशा में कहीं कोई कमी बाकी नहीं रखी जाएगी। अल्पसंख्यक मामलात मंत्री श्री शाले मोहम्मद ने सोमवार को जैसलमेर पंचायत समिति कार्यालय में नवनिर्माण, जीर्णोद्धार, सौन्दीकरण, नवीनीकरण आदि कार्यों के लोकार्पण समारोह में मुख्य अतिथि पद से संबोधित करते हुए यह बात कही। समारोह की अध्यक्षता जैसलमेर विधायक श्री रूपाराम ने की जबकि जिला प्रमुख श्रीमती अंजना मेघवाल, नगर परिषद सभापति श्री हरिवल्लभ कल्ला, जिला कलक्टर श्री नमित मेहता, जिला पुलिस अधीक्षक डॉ. किरण कंग, जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी ओमप्रकाश, पंचायत समिति की प्रधान उषा सुरेन्द्रसिंह भाटी, साँकड़ा पंचायत समिति के प्रधान वहीदुल्ला मेहर सहित अनेक समाजसेवी उपस्थित थे। अल्पसंख्यक मामलात मंत्री श्री शाले मोहम्मद ने सभी अतिथियों की मौजूदगी में फीता काट कर उद्घाटन किया तथा लोकार्पण पट्टिका का अनावरण किया । और इन कार्यों का अवलोकन करते हुए प्रधान अमरदीन वयोवृद्ध समाजसेवा कारी ओमप्रकार फकीर की सराहना की। सभी अतिथियों ने पंचायत समिति परिसर में पौधे लगाकर पौधारोपण कार्यक्रम की शुरूआत की। केबिनेट मंत्री श्री शाले मोहम्मद एवं अतिथियों ने जैसलमेर पंचायत समिति के विकास कार्यों व उपलब्धियों पर प्रकाशित पुस्तिका 'अभ्युदय' तथा अमरसागर ग्राम पंचायत द्वारा प्रकाशित विकास पुस्तिका 'अमर सन्देश' का विमोचन किया। समारोह में जैसलमेर पंचायत समिति की ओर से प्रधान अमरदीन एवं विकास अधिकारी हीरालाल कलबी ने सभी अतिथियों को पुष्पहार, शॉल एवं साफों से स्वागत करते हुए प्रतीक चिह्न भेंट कर अभिनन्दन किया गया। इस अवसर पर अल्पसंख्यक मामलात, वक्फ एवं जन अभियोग निराकरण मंत्री शाले मोहम्मद ने ग्रामीण विकास की गति को तीव्रतर करने तथा पंचायतीराज के व्यापक सशक्तिकरण के लिए राजस्थान सरकार द्वारा उठाए गए कदमों व निरन्तर किए जा रहे प्रयासों की जानकारी दी और कहा कि गांवों और गरीबों के कल्याण के लिए चौतरफा प्रयास जारी हैं। उन्होंने सरकारी योजनाओं और कार्यक्रमों की बदौलत आ रहे सकारात्मक सामाजिक एवं आंचलिक बदलाव का जिक्र किया और राज्य सरकार द्वारा इनसे संबंधित गतिविधियों की जानकारी दी और आम जन से कहा कि इनका लाभ उठाने के लिए आगे आएं। शाले मोहम्मद ने निरोगी राजस्थान के लिए हाल ही प्रदेश भर में संचालित कार्यक्रमों का जिक्र करते हुए कहा कि चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सेवाओं के माध्यम से गरीबों और जरूरतमन्दों को निःशुल्क चिकित्सा सुविधा मुहैया कराने के साथ ही निरोगी राजस्थान बनाने के लिए स्वास्थ्य जागरुकता का यह अभियान प्रदेशवासियों के लिए बहुत बड़ा अभियान है। उन्होंने लोगों से कहा कि पूरी जागरुकता के साथ सेहत रक्षा के प्रति गंभीर रहें और राजस्थान को स्वस्थ, स्वच्छ एवं सुन्दर बनाने में भागीदारी निभाएं। उन्होंने कहा कि किसानों के कल्याण के लिए सरकार समर्पित होकर काम कर रही है। जैसलमेर जिले में नहरी पानी की पर्याप्त पहुंच खेतों तक हो रही है, किसानों के लिए हितकारी योजनाओं का संचालन किया जा रहा है। उन्होंने टिड्डियों की वजह से हुए नुकसान की चर्चा करते हुए कहा कि सरकार इस समस्या के प्रति गंभीर है तथा किसानों को हुए नुकसान की भरपाई के लिए प्रयास किए जाएंगे। इसके लिए उन्होंने जिला कलक्टर को विशेष सर्वे शीघ्र कराने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जैसलमेर जिले में पंचायतीराज संस्थाओं के विस्तार से जन प्रतिनिधियों का सेवा क्षेत्र बढ़ेगा, काम-काज के लिए दूरियां कम होंगी, इससे समय, श्रम और धन की बचत होगी तथा इससे जिले के विकास को सम्बल प्राप्त होगा। केबिनेट मंत्री ने जैसलमेर जिले में समग्र विकास और बेहतर कानून व्यवस्था के लिए जिला कलक्टर एवं एसपी की तारीफ की। जैसलमेर विधायक श्री रूपाराम ने जैसलमेर पंचायत समिति के बहआयामी विकास कायों के अर्न्तगत पंचायतीराज संस्थाओं के विस्तार, कार्यालयों के आधुनिकीकरण और स्वस्थ एवं सुकूनदायी माहौल के लिए किए गए कार्यों को यादगार बताया और कहा कि टीम भावना से काम करने वाला पंचायतीराज का पूरा परिवार इसके लिए बधाई का पात्र है। जिला प्रमुख श्रीमती अंजना मेघवाल ने जैसलमेर पंचायत समिति के आधुनिक विकास और नवाचारों की सराहना की और पंचायतीराज एवं ग्रामीण विकास से जुड़े जन प्रतिनिधियों की भूमिका को महत्वपूर्ण बताया।