ALL देश /विदेश राज्य अपराध खेल मनोरंजन/सिनेमा लाइफ स्टाइल धर्म हिन्दी साहित्य शिक्षा कारोबार
आज के समय मे होम्योपैथी पद्धति सबसे अधिक कारगर-मृदुल कच्छावा शिविर में  877   मरीजों की  निशुल्क जांच कर दी दवाएं
February 17, 2020 • Dr. Surendra Sharma


धोलपुर। नेमिनाथ मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर एवं ग्राम पंचायत दूबरा सरपंच  के संयुक्त तत्वावधान में रविवार को  केशवदास विद्या मंदिर एबी रोड तोर दानियाल मे निःशुल्क  होम्योपैथी चिकित्सा शिविर का आयोजन किया गया। इस दौरान मरीजों का परीक्षण कर निःशुल्क उपचार किया गया। शिविर के मुख्य अतिथि पुलिस अधीक्षक मृदुल कच्छावा ने कहा कि आज के युग मे असाध्य रोगों के लिएहोम्योपैथी चिकित्सा पद्धति  सबसे अधिक कारगर साबित हो रही है। उन्होंने कहा कि किसी भी गंभीर बीमारी के लिएहोम्योपैथी में जो उपचार है वह एलोपेथी में नही है। उन्होंने नेमिनाथ मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर के डॉक्टर प्रदीप गुप्ता की सराहना करते टीम को धन्यवाद दिया। वही विशिष्ट अतिथि के रूप में पूर्व विधायक रविन्द्र सिंह बोहरा, केशवदास महाराज,सरपंच प्रतिनिधि राजवीर त्यागी, राजेश शर्मा मौजूद रहे।इससे पहले स्कूल प्रबंधक श्रीभगवान त्यागी, समाज सेवी सतीश शर्मा शिवदत्त त्यागी ब्रह्मदत्त त्यागी,दाताराम त्यागी आदि ने अतिथि एव चिकित्सकों की टीम का माल्यार्पण कर स्वागत किया।


  चिकित्सकों की टीम प्रभारी डॉक्टर सौरभ गुप्ता ने लोगों को बताया  कि इस विद्या से असाध्य रोगों का भी उपचार संभव है। नेमिनाथ होमियोपैथिक मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर के बैनर तले जिले में  विभिन्न  स्थानों पर शिविर आयोजित करने की घोषणा की। 


शिविर का शुभारंभ पुलिस अधीक्षक मृदुल का कच्छावा, पूर्व विधायक रविंद्र सिंह बौहरा, संत केशव दास जी महाराज, वरिष्ठ पत्रकार राजेंद्र पटेल, ग्राम पंचायत दूबरा की सरपंच प्रतिनिधि पूर्व सरपंच राजबीर सिंह त्यागी, महदपुरा के पूर्व सरपंच राजेश महदपुरा ने डा. सैमूअल हैनीमेन के चित्र पर माल्यापर्ण एवं दीप प्रज्वलित कर किया। उन्होंने कहा  आज होमियोपैथी भारत की दूसरे नंबर की सबसे ज्यादा लोकप्रिय चिकित्सा पद्धति है। इसके बारे में कुछ लोग भ्रांतियां फैला रहे हैं। यह अंग्रेजी दवा कंपनियों की एक संगठित चाल है। इससे हमें परेशान होने की जरूरत नहीं है। कारण कि होमियोपैथी अपने गुणवत्ता पर आधारित पद्धति है। डा. हैनीमेन ने पीड़ित मानवता के लिए होम्योपैथी के रूप में एक अमृत कलश प्रदान किया है जिसकी दो बूंद औषधि से हमें असाध्य से असाध्य रोगों का उपचार कर सकते है।


उन्होंने कहा कि आज स्वस्थ्य भारत की परिकल्पना बिना होमियोपैथी करना संभव ही नहीं है। एलोपैथ सहित जहां मेडिकल की सारी विद्याऐ फेल हो जाती है वहां भी होम्योपैथी मरीज को पूर्णरूप से रोगों के मुक्ति दिलाता है। होम्योपैथी अपनी गुणवत्ता पर समाज में लोकप्रिय होती जा रही है।
नेमिनाथ होम्योपैथिक मेडिकल कालेज हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर के प्राचार्य डॉक्टर प्रदीप गुप्ता ने सभी का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि शिविर का मुख्य उद्देश्य स्वास्थ्य सेवाओं को गांव के अंतिम छोर तक पहुंचाना है। शिविर के संयोजक डॉ प्रदीप कुमार ,  डॉक्टर सौरभ गुप्ता डा. सारिका पांडे, डा. अनीता, डा. दीक्षा यादव,डा.रितुजा, डा.सुमित डा. शिमुल , डा. नीरज सिह, डा. डॉक्टर अनस मोहम्मद, डॉक्टर आसिफ अली, डॉक्टर साधव,. मनोज, दिनेश शर्मा, मनोज भारद्वाज आदि ने मरीजों का परीक्षण कर उपचार किया।
कार्यक्रम के अंत में कार्यक्रम के आयोजक सरपंच प्रतिनिधि राजवीर सिंह त्यागी केशवदास विद्या मंदिर के निदेशक श्री भगवान त्यागी समाजसेवी सतीश शर्मा समाजसेवी शिवदत्त त्यागी समाजसेवी ब्रह्मदत्त त्यागी ने सभी डॉक्टरों प्रशस्ति पत्र व स्मृतिचिन्ह देकर आभार व्यक्त किया।शिविर के अंदर केशवदास विद्या मंदिर के अध्यापक दाऊजी पटसारिया, भूरी सिंह त्यागी, हरिओम त्यागी, अंकेश शर्मा , दाताराम त्यागी, जितेंद्र सिंह ,शैलेंद्र सिंह, वीरेंद्र सिंह, उस्मान राजेंद्र सिंह, सलमान, रिंकेश शिव शंकर त्यागी का बहुत ही सराहनीय योगदान रहा।कार्यक्रम का संचालन रंजीत दिवाकर ने किया