ALL देश /विदेश राज्य अपराध खेल मनोरंजन/सिनेमा लाइफ स्टाइल धर्म हिन्दी साहित्य शिक्षा कारोबार
31 अगस्त को अभिभावकों द्वारा राजस्थान बंद का आव्हान
August 23, 2020 • Dr. Surendra Sharma

 

 

31 अगस्त को अभिभावकों द्वारा राजस्थान बंद का आव्हान

 

विधायकों के द्वार गुहार प्रारंभ, दिया ज्ञापन

जयपुर 23 अगस्त । स्कूल नही तो फीस नही की मांग को लेकर अब आंदोलन तेज होता दिखाई दे रहा है, हाल ही शिक्षा संकुल पर हुई शांति रैली एवं स्कूल स्कूल जाकर स्कूल मालिको से किये गए तमाम निवेदनों के बाद भी सुनवाई नही होने से अभिभावक वर्ग का धैर्य अब टूटता नज़र आता है।

 

इस मुद्दे पर लगातार प्रयासरत संयुक्त अभिभावक समिति के प्रवक्ता एवं मीडिया प्रभारी अभिषेक जैन बिट्टू एवं प्रवक्ता ईशान शर्मा ने बताया कि इस मुद्दे पर आगामी कार्ययोजना के लिए स्कूल प्रतिनिधियों की बैठक हुई जिसमें समिति संयोजक सुशील शर्मा, कोषाध्यक्ष संजय गोयल, प्रवक्ता अरविंद अग्रवाल एवं मनोज शर्मा ने प्रतिनिधियों को संबोधित किया। करीब 3 घंटे चली बैठक में सर्वसम्मति से आगामी सोमवार, 31 अगस्त को राजस्थान बंद के आव्हान का निर्णय ले घोषणा की गई।

 

समिति महामंत्री मनीष विजयवर्गीय ने कहा कि निजी स्कूलों द्वारा अभिभावको को फीस जमा नही करवाने पर ऑन लाइन क्लास बंद कर देने, परीक्षा में सम्लित नही किये जाने, स्कूल से टीसी काटने की धमकियां मिलने की शिकायते रोज आना शर्मनाक है, साथ ही शिक्षा अधिकारी को शिकायत के बाद भी कार्यवाही नही होना सरकार के नींद में सोने की निशानी एवं असंवेदनशीलता की पराकाष्ठा है, सोई हुई सरकार एवं शिक्षा के पूंजीपति गहरी नींद से जागे इस हेतु 31 अगस्त को राजस्थान बंद का आव्हान किया गया है।

 

हाल ही विधानसभा मे फीस माफी पर अभिभावकों की आवाज बुलंदी से उठाने वाले बहरोड़ से निर्दलीय विधायक बलजीत यादव से मिल उन्हें आगामी 31 अगस्त को राजस्थान बंद की जानकारी संयुक्त अभिभावक समिति के महामंत्री मनीष विजयवर्गीय, प्रवक्ता ईशान शर्मा, अरविंद अग्रवाल एवं मीडिया प्रभारी अभिषेक जैन बिट्टू ने दी साथ ही उन्हें सहयोग हेतु लिखित निवेदन पत्र भी दिया।

 

विधायक ने समिति के प्रयासों की सराहना करते हुवे विश्वास दिलाया कि वे पुनः मुख्यमंत्री जी इस विषय मे बात कर अभिभावको को राहत की बात रखेगे।

 

आने वाले दिनों में संयुक्त अभिभावक समिति के पदाधिकारी अन्य विधायको से मिलकर निवेदन करेंगे कि वे विधानसभा में जनता की आवाज़ बने एवं निजी स्कूल मालिको द्वारा की जा रही मनमानी पर लगाम लगवा कर अभिभावको को राहत दिलवाए।